मुझे एक साल और मिलता तो अगले पांच साल भी हमारे ही होते: हरीश रावत

देहरादून  [उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो] उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का मानना है कि अगर उन्हें बतौर मुख्यमंत्री एक साल और काम करने का मौका मिला तो मेरे काम खुद बोलते की हरीश रावत को पांच साल और दिया जाए। (उत्तराखंड पोस्ट के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं, आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

देहरादून में एक निजि चैनल के कार्यक्रम में हरीश रावत ने अपने सरकार के कामों से लेर चुनाव और संगठन को लेकर खुलकर बात की।

हरीश रावत ने कहा कि मैं गर्व के साथ कह सकता हूं कि उत्तराखंड देश के सबसे तेज़ी से बढ़ते राज्यों में से है। रोज़गार की समस्या पर अंतिम साल में ध्यान केंद्रित किया। साढ़े बारह हज़ार नौजवानों को नौकरी दी। हमने युवाओं का स्किल डेवलपमेंट किया और बैंकों के साथ मिलकर उन्हें काम करने के मौके उपलब्ध करवाए, नई सरकार को यही करना चाहिए।

रावत ने कहा कि मैंने स्किल डेवलपमेंट पर काम किया, बैंकों के साथ मिलकर 2000 नौजवानों को नौकरी मांगने वालों के बजाय नौकरी देने वाला बनाया। सरकार आती तो 2017 में 50000 युवाओं को उद्यमी बनाता। मनमोहन सिंह ने स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम चलाया, जिसे जारी रहना चाहिए।

रावत ने कहा कि मैंने अपने कार्यकाल में 1100 नई पहलें की, मुझे एक साल और मिला होता तो ये पहलें खुद बोलतीं कि हरीश रावत को पांच साल और दिया जाए। चुनाव के दौरान बाहुबलि अवतार के सवाल पर हरीश रावत ने कहा, जब चुनाव का वक्त था तब अमित शाह समेत तमाम केंद्रीय मंत्री उत्तराखंड में डटे रहे। हम अकेले थे तो ऐसे में किसी युवा ने मुझे बाहुबली के तौर पर मुझे चित्रित कर दिया, मैं कहीं का बाहुबली नहीं हूं।

साथ ही हरीश रावत ने कहा कि उत्तराखंड की हार के लिए राहुल गांधी जिम्मेदार नहीं हैं। हरीश रावत बोले कि भाजपा ने अपने वोटों में 11 लाख की बढ़ोत्तरी की जबकि कांग्रेस सिर्फ 2.5 लाख का ही इजाफा कर सकी। मैं एक ऐसा मुख्यमंत्री था जिसे सुबह और शाम दोनों वक्त ये देखना पड़ता था कि सम​र्थन चल रहा है या नहीं।

(उत्तराखंड पोस्ट के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं, आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)