कोरोना | भारत में बनी किट को मिली मंजूरी, हफ्तेभर बाद एक चौथाई कीमत पर होंगे 1 करोड़ के टेस्ट

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) देशवासियों के लिए अच्छी खबर है। इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने कोरोना वायरस के टेस्ट के लिए भारत निर्मित पहली टेस्ट किट को  मंजूरी दे दी है। अब देश के लोग आसानी से और सस्ते में कोरोना की जांच करा  सकेंगे।

ICMR ने पुणे की फर्म मायलैब को किट बनाने की जिम्मेदारी दी है। साथ ही कंपनी ने भी 1 लाख किट तैयार करने का वादा किया है। कंपनी का दावा है कि एक किट से 100 मरीजों का टेस्ट किया जा सकता है।

6 हफ्तों में विकसित की किट- जानकारी के मुताबिक पुणे की कंपनी मायलैब ने 6 हफ्तों में स्वदेशी किट विकसित की है। इस लैब के जरिये हर हफ्ते 1 लाख किट का निर्माण किया जा सकता है. मायलैब जो किट तैयार करेगी उसकी लागत विदेश से आने वाली किट से एक चौथाई होगी। बताया जा रहा है कि प्रत्येक किट से 100 मरीजों का टेस्ट किया जा सकता है। मायलैब पैथोडिटेक्ट कोविड-19 क्वालिटेटिव पीसीआर किट वह पहली किट है जिसे व्यावसायिक तौर पर मंजूरी दी गई है।

इस किट को इंडियन एफडीए/केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) ने मंजूरी दी है। इसके अलावा, मायलैब एकमात्र भारतीय कंपनी है जिसने ICMR मूल्यांकन में 100 प्रतिशत संवेदनशीलता और विशिष्टता हासिल की है।

आपको बता दें कि अभी प्रति मिलियन आबादी पर होने वाले टेस्ट के लिहाज से भारत सबसे निचले पायदान पर है। इस लिहाज से देखा जाए तो दक्षिण कोरिया और सिंगापुर जैसे देश भारत से आगे हैं जिन्होंने कोरोना वायरस के मामलों को टेस्ट किट की मदद से पहचान करने और रोकने में सफलता हासिल की है।

Youtube – http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost

Twitter– https://twitter.com/uttarakhandpost                                

Facebook Page– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost