आसान होगी चारधाम यात्रा, चारों धाम तक ऐसे पहुंचेगे छुक-छुक गाड़ी ?

उत्तराखंड के चारों धाम गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बदरीनाथ तक एकल ब्रॉड गेज लाइन का अंतिम लोकेशन सर्वे प्रारंभ होने जा रहा है। रेल विकास निगम (आरवीएनएल) को इस फाइनल लोकेशन सर्वे की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इसके तहत उत्तराखंड में गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ व केदारनाथ को देहरादून और कर्णप्रयाग होते हुए रेल से जोड़ा जाएगा। अब ख़बरें एक क्लिक पर इस लिंक पर क्लिक कर Download करें Mobile App – उत्तराखंड पोस्ट

रेलमंत्री सुरेश प्रभु उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत तथा केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह की उपस्थिति में 13 मई को इस कार्य का शुभारंभ करेंगे। संपूर्ण परियोजना की लंबाई 327 किलोमीटर होगी और इस पर 43,292 करोड़ रुपये की लागत आएगी। इसके तहत 21 नए स्टेशनों के अलावा 61 सुरंगों तथा 59 पुलों का निर्माण होगा।

इन चारों धामों तक पहुंचने के लिए अभी निकटतम रेलवे स्टेशन डोईवाला, ऋषिकेश तथा कर्णप्रयाग हैं, जिनका निर्माण ऋषिकेश व कर्णप्रयाग के बीच 400-825 मीटर की ऊंचाई पर निर्माणाधीन नई रेलवे लाइन के अंतर्गत किया जा रहा है।

आरवीएनएल ने 2014-15 में कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट का आकाशीय सर्वेक्षण किया था और अक्टूबर, 2015 में अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपी थी। इसमें उसने परियोजना का कार्य शुरू करने के लिए दो बिंदु सुझाए थे। एक डोईवाला स्टेशन और दूसरा कर्णप्रयाग स्टेशन। ये दोनो स्टेशन फिलहाल निर्माणाधीन हैं। गंगोत्री के लिए प्रस्तावित रेल लिंक डोईवाला से प्रारंभ होगा और उत्तरकाशी होते हुए 131 किलोमीटर की दूरी तथा 1270 मीटर की ऊंचाई पर स्थित मनेरी तक जाएगा।1केदारनाथ जाने वाली प्रस्तावित रेलवे लाइन प्रस्तावित कर्णप्रयाग स्टेशन से प्रारंभ होकर साईकोट होते हुए 99 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सोनप्रयाग में समाप्त होगा, जो समुद्रतल से 1650 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। बद्रीनाथ के लिए प्रस्तावित रेलवे लाइन केदारनाथ वाले उपरोक्त लिंक के बीच साईकोट से वाई आकार में निकलेगी और 75 किलोमीटर की दूरी तथा 1733 मीटर की ऊंचाई पर स्थित जोशीमठ पर जाकर समाप्त होगी।