वीडियो- इस मिसाइल से DRDO ने बढ़ाई सेना की शक्ति, दुश्मन के टैंक होंगे चुटकियों में तबाह

95

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट)  DRDO ने एक और मिसाइल का सफल परीक्षण कर सेना की शक्ति और मनोबल को बढ़ाया  है। दरअसल, बुधवार को DRDO ने आंध्र प्रदेश के कुरनूल में स्वदेश निर्मित ‘मैन पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल’ (एमपीएटीजीएम) का सफल परीक्षण किया।

रक्षा मंत्रालय ने कहा कि यह MPATGM के सफल परीक्षण की यह तीसरी श्रृंखला है। इसका इस्तेमाल सेना करेगी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मिसाइल के सफल परीक्षण पर डीआरडीओ को बधाई दी। बताया गया कि इस परीक्षण के साथ ही मनुष्य द्वारा ले जाने योग्य टैंक रोधी निर्देशित मिसाइल की तीसरी पीढ़ी को स्वदेश में विकसित करने का सेना का मार्ग प्रशस्त हो गया है।

रक्षा मंत्रालय ने कहा, “भारतीय सेना के मनोबल में बढ़ोतरी के तहत डीआरडीओ ने आज कुरनूल रेंज से स्वदेश विकसित कम वजनी, दागो और भूल जाओ एमपीएटीजीएम का सफल परीक्षण किया।” साथ ही  मंत्रालय ने बताया कि इस मिसाइल को मनुष्य द्वारा ढो सकने वाले ट्राइपॉड लॉन्चर से दागा गया और इसने निर्धारित लक्ष्य को भेदा।

भारतीय सेना की इंफैंट्री बटालियन युद्ध के समय इस मिसाइल का इस्तेमाल दुश्मनों के टैंक और बख़्तरबंद गाड़ियों को पस्त करने के लिए करेगी। DRDO के चेयरमैन जी सतीश रेड्डी ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से कहा कि मिसाइल प्रोजेक्ट के क्षेत्र में यह एक बड़ी सफलता है। अब भारत एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल के क्षेत्र में आत्मनिर्भर हो गया है।

Youtube – http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost 

Twitter– https://twitter.com/uttarakhandpost                 

Facebook Page– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost