चारधाम यात्रा | सुरक्षित उत्तराखंड का संदेश देने में सफल रही सरकार

CHAR DHAMचारधाम यात्रा को लेकर किए गई सरकारी प्रयासों का असर दिखने लगा है। राज्य में आपदा के बाद से ही पर्यटकों और श्रद्धालुओं को सुरक्षित उत्तराखंड का संदेश देने में भी राज्य सरकार सफल दिखाई दे रही है। 9 मई से शुरु हुआ चार धाम यात्रा के प्रति देश विदेश के श्रद्धालुओं के जोश और उत्साह से तो कम से कम यही जाहिर होता है। यात्रा के शुरुआती दिनों में ही चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में ईजाफा देखने को मिल रहा है। इतना ही नहीं शुरुआत में ही श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या ने इस मामले में पिछले साल का रिकार्ड तोड़ दिया है।

3 दिनों में पहुंचे 55 हजार श्रद्धालु | जानकारी के अनुसार चारधाम यात्रा के शुरुआती तीन दिनों में श्रद्धालुओं की संख्या 55 हजार को पार कर गई है। चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं के आने की रफ्तार यही रही तो माना जा रहा है कि इस साल श्रद्धालुओं की संख्या का नया रिकार्ड कायम हो सकता है।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम | इस बार चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। यहां तक की हाईवे पेट्रोलिंग के जरिए कोशिश की जा रही है कि रास्ते में भी किसी श्रद्धालु को कोई परेशानी ना हो और वह बेफिक्र होकर अपनी यात्रा कर सके। गढ़वाल रेंज के आईजी संजय गुंज्याल ने जानकारी देते हुए बताया है कि एसडीआरएफ और स्थानीय पुलिस की तैनाती चारधाम यात्रियों की सुरक्षा के लिए की गई है।

SMS से यात्रा की जानकारी | आईजी संजय गुंज्याल ने जानकारी देते हुए बताया है कि यात्रा में आने वाले सभी यात्रियों के मोबाइल नंबर को रजिस्टर्ड किया जाता है और उनको माबोईल पर यात्रा मार्गों के बारे में समय – समय पर पूरी जानकारी दी जाती है। साथ ही आगे मौसम कैसा रहेगा, इसका अलर्ट भी श्रद्धालुओं को मोबाइल पर भेजा जाता है।