जानिए पार्टी के लिए किस निजि नुकसान को सहन कर रहे हैं किशोर ?

उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक किशोर ने कहा कि वह इस विधानसभा चुनाव में लड़ना नहीं चाहते थे। उन्होंने पहले ही हाईकमान के सामने अपनी यह इच्छा जाहिर करते हुए कह दिया था कि इस बार वह चुनाव लड़ना नहीं बल्कि लड़वाना चाहते हैं।

किशोर ने कहा कि सहसपुर से टिकट देना पार्टी हाइकमान का फैसला है, जिसका वह सम्मान करते हैं। ऐसा हो सकता है कि व्यक्तिगत रूप से उन्हें इसका नुकसान उठाना पड़े। लेकिन पार्टी हित में वह इसे सहन कर लेंगे।
हरीश रावत के दो सीटों पर चुनाव लड़ने के फैसले पर उन्होंने कहा कि हरीश रावत पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेता है। हाईकमान ने उनकी काबिलियत को देखते हुए उन्हें दो सीटों की जिम्मेदारी सौंपी है। साथ ही कहा कि कांग्रेस पार्टी इस चुनाव में सभी 70 विधानसभा सीटों पर अपने सिंबल पर ही चुनाव लड़ेगी।

टिकटों को लेकर कार्यकर्ताओं की नाराजगी पर कहा कि इस संबंध में विचार किया जाएगा। टिहरी से उन्हें टिकट न दिए जाने पर प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि यह हाईकमान का फैसला है, इस पर वह कोई टिप्पणी नहीं करेंगे।