हाईकोर्ट से त्रिवेंद्र सरकार को झटका, इन छात्रों को मिलेगा बड़ा फायदा

नैनीताल  (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश ले चुके छात्रों को हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है। नैनीताल हाईकोर्ट ने सरकार की ओर से फीस बढ़ोत्तरी के शासनादेश को निरस्त करने के साथ ही फीस जमा कर चुके छात्रों को 15 दिन के भीतर रकम लौटाने के निर्देश सरकार को दिए हैं।

दरअसल 14 अक्टूबर 2015 को राज्य सरकार के निर्देशानुसार शासन ने आयुर्वेदिक कॉलेजों में शुल्क बढ़ोत्तरी का आदेश जारी किया था। शासनादेश में निर्धारित शुल्क 80 हजार से दो लाख 15 हजार सालाना कर दिया था।

सरकार के शासनादेश को हिमालयन आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज के डोइवाला देहरादून के ललित तिवारी ने याचिका के माध्यम से चुनौती दी। याची के अधिवक्ता विनोद तिवारी ने कोर्ट को बताया कि सरकार द्वारा खास कॉलेज को फायदा पहुंचाने के मकसद से जीओ जारी किया।

फीस निर्धारण समिति एक्ट 2006 के तहत समिति को फीस बढ़ोत्तरी का अधिकार है मगर सरकार द्वारा प्रत्याशा में शुल्क बढ़ोत्तरी का शासनादेश जारी कर दिया। यहीं नहीं 14 अक्टूबर 2015 में शासनादेश जारी हुआ मगर कॉलेजों ने 13 एक्टूबर से पहले ही बढ़ा शुल्क वसूलना आरंभ कर दिया।

कोर्ट ने याचिकाकर्ता की दलील को सुनने के बाद फीस बढ़ोत्तरी के शासनादेश को निरस्त कर दिया। साथ ही बढ़ी हुई फीस 15 दिन के भीतर या जितना जल्दी संभव हो छात्रों को लौटाने का आदेश पारित किया है।

(उत्तराखंडपोस्ट के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैंआप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

तो बदलेगा काठगोदाम से देहरादून आने वाली ट्रेन का समय !