उत्तराखंड में ब्लैक फंगस से एक और मौत, ये लक्षण दिखें तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं

एम्स ऋषिकेश में ब्लैक फंगस से अल्मोड़ा निवासी 69 वर्षीय बुजुर्ग की मौत हो गई। अल्मोड़ा बेस अस्पताल में ब्लैक फंगस के संदिग्ध लक्षण मिलने के बाद एक 69 वर्षीय मरीज को एसटीएस हल्द्वानी रेफर किया था। यहां से मरीज को एम्स ऋषिकेश भेज दिया गया।
 
Black Fungus

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) कोरोना संक्रमण से ठीक हुए लोग म्यूकरमाईकोसिस (ब्लैक फंगस) का शिकार हो सकते हैं, जिससे बचाव के लिए जानकारी और सावधानी होनी बेहद जरूरी है।

ब्लैक फंगस से प्रभावित व्यक्ति के आंख या जबड़े में इंफेक्शन होता है, जो जानलेवा हो सकता है। कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद यदि निम्न लक्षण दिखाई दें तो सतर्क रहें और डॉक्टरों द्वारा बताई गई दवाइयों का सेवन करें।

उत्तराखंड में ब्लैक फंगस से एक और मौत

एम्स ऋषिकेश में ब्लैक फंगस से अल्मोड़ा निवासी 69 वर्षीय बुजुर्ग की मौत हो गई। अल्मोड़ा बेस अस्पताल में ब्लैक फंगस के संदिग्ध लक्षण मिलने के बाद एक 69 वर्षीय मरीज को एसटीएस हल्द्वानी रेफर किया था। यहां से मरीज को एम्स ऋषिकेश भेज दिया गया।

एम्स में जांच के दौरान मरीज में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई। जिसके बाद मरीज को ब्लैक फंगस केयर वार्ड में भर्ती किया गया, लेकिन चिकित्सकों के तमाम प्रयासों के बाद मरीज ने बुधवार देर रात को दम तोड़ दिया। वहीं एम्स संस्थान में ब्लैक फंगस के चार नए केस मिले हैं।

एम्स ऋषिकेश के ईएनटी विभाग के डॉ. अमित त्यागी ने बताया कि संस्थान में ब्लैक फंगस के अब तक 46 केस मिल चुके हैं। इनमें से उत्तराखंड के दो और उत्तरप्रदेश के मरीज की मौत हुई है। एक 81 वर्षीय महिला को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया था, अभी 42 मरीज भर्ती हैं। 

From around the web