भू कानून उत्तराखंड की बड़ी जरूरत, देर की तो कहीं राज्य न हो जाए खोखला- हरक

वहीं वन मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड में एक सुसंगत भू कानून की बेहद जरुरत है। अगर इसमें देर की गई तो कहीं ऐसा न हो कि उत्तराखंड खोखला हो जाए। वन मंत्री भाजपा कार्यसमिति की बैठक में शामिल होने के लिए टिहरी पहुंचे थे, जहां उन्होंने ये बात कही।

 
HARAK
 

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड में भू कानून लागू करने की मांग लगातार उठाई जा रही है। विधानसभा चुनाव से ठीक पहले प्रदेश में भू-कानून का मुद्दा अचानक गरमा गया है। भू- कानून के पक्ष में युवा एक जुट हो गए हैं। बीते कुछ दिन से ट्वीटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम सहित सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भू कानून के समर्थन में युवा जोरदार अभियान छेड़े हुए हैं। सोशल मीडिया पर इन दिनों #भूकानून #उत्तराखंड_मांगे_भूकानून ट्रेंड कर रहा है।

वहीं वन मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड में एक सुसंगत भू कानून की बेहद जरुरत है। अगर इसमें देर की गई तो कहीं ऐसा न हो कि उत्तराखंड खोखला हो जाए। वन मंत्री भाजपा कार्यसमिति की बैठक में शामिल होने के लिए टिहरी पहुंचे थे, जहां उन्होंने ये बात कही।

वन मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि पिछले कुछ सालों में बहुत परिवर्तन आ गया है। ऐसे में जमीनों को बचाने की जरुरत है। मैंने पहले भी मंत्री रहने के दौरान उत्तराखंड में चकबंदी की बात उठाई थी, लेकिन वह लागू नहीं हो पाई। प्रदेश में उद्यान और कृषि में काम करने की अपार संभावनाएं है और जमीन बचाना बेहद जरूरी है। भू कानून के के लिए लचीलापन और दृढ़ता देानों की जरुरत है। भू कानून लागू करने के लिए विचार किया जाना चाहिए।

From around the web