उत्तराखंड | पहले हरक का इस्तीफा, फिर मान गए, अब अड़े, जानिए 12 घंटे में क्या -क्या हुआ ?

सुबह बीजेपी विधायक उमेश शर्मा काऊ ने कहा कि हरक सिंह रावत की चिंताएं दूर कर दी गई है और कोई कहीं नहीं जा रहा है।उमेश शर्मा काऊ ने कहा कि हरक सिंह रावत के मुद्दे को गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी नेता अनिल बलूनी और सीएम पुष्कर सिंह धामी के संयुक्त प्रयास के बाद हल कर लिया गया है।
 
HARAK

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले राजनीति गर्म है। पहले कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के इस्तीफे की खबर आई, फिर बीजेपी विधायक उमेश शर्मा ने दावा किया कि हरक की सीएम धामी से बात हो गई है और हरक सिंह रावत की नाराजगी दूर हो गई है।

अब इस सब में एक और ट्विस्ट आया है। खबर मिल रही है कि हरक सिंह रावत मानने को तैयार नहीं हैं। हरक सिंह रावत अपने फैसले पर अड़िग दिख रहे हैं। हरक का कहना है कि उनकी मुलाकात सीएम से नहीं हुई है। बकौल हरक वो अपने फैसले पर टिके हैं। उन्होंने कहा कि रात को एक विधायक ने मुझसे मुलाकात की थी। उन्होंने मेरी बात मुख्यमंत्री से करवाने की कोशिश की थी। लेकिन उन्होंने बात नहीं की।

सुबह बीजेपी विधायक उमेश शर्मा काऊ ने कहा कि हरक सिंह रावत की चिंताएं दूर कर दी गई है और कोई कहीं नहीं जा रहा है।उमेश शर्मा काऊ ने कहा कि हरक सिंह रावत के मुद्दे को गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी नेता अनिल बलूनी और सीएम पुष्कर सिंह धामी के संयुक्त प्रयास के बाद हल कर लिया गया है।

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक का भी दावा है कि पार्टी में सब कुछ ठीक है। कौशिक ने हरक सिंह रावत के मंत्री पद से इस्तीफे की खबरों को खारिज किया है। उन्होंने कहा है बीजेपी में सब कुछ ठीक है।

आपको बता दें कि गुरुवार रात को हरक सिंह रावत ने अपनी ही सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए इस्तीफा दिया था। हरक का कहना था कि राज्य सरकार कोटद्वार में मेडिकल कॉलेज को लटका रही है। ऐसी परिस्थिति में वो अब काम नहीं कर सकते हैं।

From around the web