उत्तराखंड | अस्पताल में ऑक्सीजन लाइन पर लोड बढ़ने से मुश्किल बढ़ी, बमुश्किल संभली स्थिति

देहरादून में एक बड़ी घटना टल गई। राजकीय दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मंगलवार रात एक साथ कई मरीजों को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ गई। इससे ऑक्सीजन लाइन पर प्रेशर बढ़ गया और आपूर्ति में दिक्कत आई। हालांकि अस्पताल प्रशासन ने ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वालों से संपर्क कर किसी तरह स्थिति संभाली। 
 
उत्तराखंड | अस्पताल में ऑक्सीजन लाइन पर लोड बढ़ने से मुश्किल बढ़ी, बमुश्किल संभली स्थिति
देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) देहरादून में एक बड़ी घटना टल गई। राजकीय दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मंगलवार रात एक साथ कई मरीजों को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ गई। इससे ऑक्सीजन लाइन पर प्रेशर बढ़ गया और आपूर्ति में दिक्कत आई। हालांकि अस्पताल प्रशासन ने ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वालों से संपर्क कर किसी तरह स्थिति संभाली। 

अमर उजाला ने दून अस्पताल के सूत्रों के अनुसार लिखा- मंगलवार रात लगभग 100 से अधिक मरीजों को एक साथ ऑक्सीजन की जरूरत पड़ गई थी। इसके लिए ऑक्सीजन प्लांट से लाइन में आपूर्ति सुचारू करने के लिए विशेषज्ञ और अन्य स्टाफ की सक्रियता बढ़ानी पड़ी।

एक साथ बड़ी संख्या में लोगों को ऑक्सीजन देने के चलते लाइनों पर लोड बढ़ गया। इसके कारण ऑक्सीजन की आपूर्ति मरीजों तक पहुंचने में दिक्कत आने लगी। सुचारू तरीके से ऑक्सीजन नहीं मिलने से कई मरीजों की सांसें उखड़ने लगीं। हालात नियंत्रण से बाहर होने पर मेडिकल स्टॉफ ने अधिकारियों को सूचना दी। इसके बाद राजकीय दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रशासन ने ऑक्सीजन आपूर्ति करने वाले फर्म के विशेषज्ञ संचालकों से संपर्क किया।

देर रात विशेषज्ञों ने मोर्चा संभाला और सभी लाइनों को चेक कर ऑक्सीजन प्लांट की मुख्य लाइन चेक करने के बाद आपूर्ति बहाल की गई। राजकीय दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. केसी पंत ने बताया कि सभी विशेषज्ञों के सहयोग से समय पर स्थिति संभाल ली गई थी। 

विशेषज्ञों का कहना है कि समय पर दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रशासन ने व्यवस्थाएं न संभाली होती तो यहां भी नासिक (महाराष्ट्र) की जैसी घटना हो सकती थी।बता दें कि  नासिक में ऑक्सीजन की समुचित आपूर्ति न होने की वजह से करीब 24 मरीजों की जान चली गई। अस्पताल प्रशासन का कहना है कि ऑक्सीजन के मसले पर पूरी तरह से नियम बनाए हुए हैं। किसी भी तरह की दिक्कत आने पर तुरंत उसका समाधान किया जा रहा है।

From around the web