उत्तराखंड | जंगल में सेल्फी ले रहा था युवक, तभी आ धमका तेंदुआ, जानिए फिर...

 ऋषिकेश से चीला होते हुए अपने घर बिजनौर जा रहे एक युवक को सेल्फी लेने के चक्कर में दो दिनों तक जंगल में ही रात गुजारनी पड़ी।
 
leopard
 

ऋषिकेश (उत्तराखंड पोस्ट ) ऋषिकेश से चीला होते हुए अपने घर बिजनौर जा रहे एक युवक को सेल्फी लेने के चक्कर में दो दिनों तक जंगल में ही रात गुजारनी पड़ी।

दरअसल सेल्फी लेते समय युवक पर तेंदुए ने हमला कर दिया। जान बचाने के लिए नीलधारा और गंगा के में कूद गया। जिसके बाद दो दिन तक वह नीलधारा और गंगा की मुख्य धारा के बीच जंगल में फंसा रहा।पुलिस को मामले की जानकारी लगी तो रेस्क्यू टीम ने मौके पर पहुंचकर युवक को बाहर निकाला।

जानकारी के मुताबिक यूपी के बिजनौर क्षेत्र के नागल सोती के गांव हरचंदपुर निवासी अनुराग ऋषिकेश में गुब्बारों के डेकोरेशन का काम करता है। गुरुवार को वो बाइक से चीला रोड होते हुए अपने घर जा रहा था। बताया जाता है कि चीला पहुंचने पर अनुराग सेल्फी ले रहा था। इस बीच तेंदुए ने हमला करने की कोशिश की तो वह जंगल की तरफ भाग गया और इसके बाद गंगा में कूद गया। उसका मोबाइल भी पानी में गिर गया। इसके बाद वह दो दिन तक गंगा की मुख्य धारा व नीलगंगा के बीच शदाणी घाट के पास फंसा रहा।

युवक ने सूखी लकड़ी जमा की और आग जलाई। जंगल से धुआं उठता देखकर घाट पर घूम रहे कुछ लोगों ने सप्तऋषि पुलिस चौकी प्रभारी प्रवीन रावत को इसकी सूचना दी। सूचना मिलने पर प्रवीण रावत अपनी टीम के साथ शदाणी घाट पर पहुंचे और जल पुलिस के साथ राफ्ट से गंगा की मुख्य धारा को पार कर नीलधारा पहुंचे।

और युवक को रेस्क्यू किया। युवक ने पूछताछ में बताया कि वह दो दिनों से जंगल में फंसा हुआ था। रात के समय पेड़ पर रहकर किसी तरह से उसने जंगली जानवरों से अपनी जान बचाई।

From around the web