जब CM तीरथ को 4 हत्याओं के आरोपी के साथ जेल में बितानी पड़ी रात, खुद बताया ये किस्सा

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत एक के बाद एक बड़े फैसले ले रहे है। कुंभ को लेकर CM तीरथ कई बदलाव कर चुके है। अब CM ने कोरोना काल में दर्ज हुए 4500 मुकदमे वापस लेने का फैसला लिया है। बता दें कि ये वे मुकदमे हैं जो लॉकडाउन के दौरान नियमों के उल्लंघन करने पर पुलिस ने दायर किए थे।
 
जब CM तीरथ को 4 हत्याओं के आरोपी के साथ जेल में बितानी पड़ी रात, खुद बताया ये किस्सा

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत एक के बाद एक बड़े फैसले ले रहे है। कुंभ को लेकर CM तीरथ कई बदलाव कर चुके है। अब CM ने कोरोना काल में दर्ज हुए 4500 मुकदमे वापस लेने का फैसला लिया है। बता दें कि ये वे मुकदमे हैं जो लॉकडाउन के दौरान नियमों के उल्लंघन करने पर पुलिस ने दायर किए थे।

हरिद्वार पहुंचे नवनियुक्त मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने आदेश दिए कि लॉकडाउन के दौरान जितने भी मुकदमे लगे वे वापस हों। लमुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान सख्ती बरतने के लिहाज से पुलिस ने अनावश्यक मुकदमे दर्ज किए। उन सब को वापस करने के आदेश जारी हो चुके हैं।

इसी दौरान मुख्यमंत्री ने अपना एक अनुभव साझा किया। मुख्यमंत्री ने बताया कि राम मंदिर आंदोलन के दौरान वह कारसेवा के लिए अयोध्या गए थे। वापस लौटने पर उनको गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। मुख्यमंत्री ने बताया कि जमानत अगले दिन होनी थी। हम जिस बैरक में थे, उस बैरक में उनके साथ जो बन्दी था वह बिजनौर का था। जब उनकी उस अपराधी से बात हुई तो पता चला कि वह चार हत्याओं का आरोपी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले तो डर लगा मगर बाद में सामान्य हो गया और अगले दिन जमानत हो गई। इस बात से उन्होंने समझाया कि बेवजह आम जनता को जेल नहीं जाने दिया जाएगा। इसलिए उन्होंने लॉकडाउन के दौरान दर्ज मुकदमे वापस करने के आदेश दिए हैं।

From around the web