कोवैक्सीन का टीका लगवाने वालों के लिए अहम ख़बर, WHO की लिस्ट से हो सकती है ये मुश्किल

WHO ने अब तक कोवैक्सीन को EUL में शामिल नहीं किया है। डब्ल्युएचओ के ताजा दिशा-निर्देशों से पता चलता है कि भारत बायोटेक ने एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट जमा किया है, लेकिन इसके संबंध में अभी 'और जानकारी की जरूरत है। WHO ने कहा है कि मीटिंग मई-जून में तय है, इसके बाद कंपनी को एक डोजियर दाखिल करना होगा।
 
Cowaxin
 

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) भारत बायोटेक (Bharat Biotech) में तैयार हुई स्वदेशी 'कोवैक्सीन' के टीके लगवाने वालों को विदेश यात्रा पर जाने में फिलहाल मुश्किलें आ सकती हैं।

खबर है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की इमरजेंसी यूज लिस्टिंग में शामिल नहीं होने के कारण अन्य देशों में एंट्री लेने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। आपको बता दें कि कई देशों ने टीका प्राप्त यात्रियों के लिए नीतियों की घोषणा कर दी हैं।

अंग्रेजी अख़बार टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, कई देश उन्हीं वैक्सीन को अनुमति दे रहे हैं, जिन्हें उनके नियामकों की तरफ से मंजूरी मिल चुकी हो या वे WHO की सूची में शामिल हों। फिलहाल इस सूची में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड, मॉडर्ना, फाइजर, एस्ट्राजेनेका (2), जेनसेन (अमेरिका और नीदरलैंड्स) और सिनोफार्म/बीबीआईपी का नाम शामिल है।

WHO ने अब तक कोवैक्सीन को EUL में शामिल नहीं किया है। डब्ल्युएचओ के ताजा दिशा-निर्देशों से पता चलता है कि भारत बायोटेक ने एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट जमा किया है, लेकिन इसके संबंध में अभी 'और जानकारी की जरूरत है। WHO ने कहा है कि मीटिंग मई-जून में तय है, इसके बाद कंपनी को एक डोजियर दाखिल करना होगा।

इस डोजियर के स्वीकार किए जाने के बाद कोवैक्सीन को अपनी सूची में शामिल करने से पहले डब्ल्युएचओ की तरफ से आंकलन किया जाएगा। इसके बाद वैक्सीन के EUL में शामिल किए जाने की प्रक्रिया शुरू हो सकती है। अब इस दौरान हर काम में हफ्तों का समय लग सकता है। टीओआई के अनुसार, इसे लेकर भारत बायोटेक की तरफ से अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

हिंदी न्यूज वेबसाईट न्यूज 18 से बात करते हुए इमीग्रेशन एक्सपर्ट विक्रम श्रॉफ का कहना है कि अगर वैक्सीन EUL में नहीं है या विदेश में उसे मंजूरी नहीं मिली है, तो यात्री को टीका प्राप्त नहीं माना जाएगा।

आपको बता दें कि फिलहाल भारत में कोवैक्सीन और कोविशील्ड को अनुमति मिली हुई है। इसके अलावा रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-V भी इस्तेमाल के लिए तैयार है। उम्मीद की जा रही है कि यह जल्द ही बाजार में व्यापक स्तर पर उपलब्ध हो जाएगी।

From around the web