ध्यान दें | ये लक्षण दिखें तो भी डॉक्टर से परामर्श कर जरुर करवाएं कोरोना टेस्ट

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक डॉक्टर भी कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान इंफेक्शन के लक्षणों में हुए बदलाव की बात कह रहे हैं। पिछले कुछ दिनों से बड़ी संख्या में ऐसे लोगों में भी कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो रही है, जिन्हें न बुखार आया और ना ही सर्दी-जुकाम हुआ।
 
ध्यान दें | ये लक्षण दिखें तो भी डॉक्टर से परामर्श कर जरुर करवाएं कोरोना टेस्ट

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) भारत में कोरोना वायरस तेजी से अपने पैर पसार रहा है। हालात ये हैं कि हर रोज एक लाख से ज्यादा कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे वक्त में कोरोना से बचकर रहना बहुत जरुरी है।

जरुरत इस बात की है कि अपने लक्षणों पर नजर रखना। म्यूटेशन की वजह से हर थोड़े-थोड़े दिन में कोरोना वायरस का रूप बदल रहा है जिस वजह से उसके लक्षणों में भी बदलाव देखने को मिल रहा है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक डॉक्टर भी कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान इंफेक्शन के लक्षणों में हुए बदलाव की बात कह रहे हैं। पिछले कुछ दिनों से बड़ी संख्या में ऐसे लोगों में भी कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो रही है, जिन्हें न बुखार आया और ना ही सर्दी-जुकाम हुआ।

ये लोग तो बदन दर्द, सिर दर्द या पेट दर्द की शिकायत लेकर डॉक्टर के पास पहुंचे और जब उनका आरटीपीसीआर टेस्ट हुआ तो पता चला कि वे कोरोना वायरस से संक्रमित हैं।

डॉक्टरों की मानें तो पेट में दर्द, उल्टी-दस्त, बदन दर्द की शिकायत लेकर आने वाले करीब 40 प्रतिशत मरीजों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है। ज्यादातर लोगों को अब तक यही लगता है कि सर्दी-खांसी, जुकाम और बुखार ही कोरोना के लक्षण हैं इसलिए अगर उन्हें पेट दर्द, सिरदर्द या बदन दर्द की समस्या होती है तो वे डॉक्टर के पास जाने की बजाए घर पर ही घरेलू नुस्खों से इलाज करते रहते हैं लेकिन जब काफी समय तक बीमारी ठीक नहीं होती तब वे डॉक्टर के पास जाते हैं और तब तक वायरस शरीर को काफी नुकसान पहुंचा देता है। ऐसे में अगर किसी व्यक्ति को लंबे समय तक बदन दर्द या पेट में दर्द की समस्या हो तो देर किए बिना कोरोना का टेस्ट जरूर करवाना चाहिए।

(नोट- किसी भी उपाय को करने से पहले हमेशा किसी विशेषज्ञ या चिकित्सक से परामर्श जरुर करें। उत्तराखंड पोस्ट इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है)

From around the web