GST में पंजीकृत सामाजिक सम्मान का विषय, प्रत्येक व्यापारी को जीएसटी में पंजीयन लेना चाहिए: एमपी सिंह

किसी भी व्यापारी के लिए जीएसटी में पंजीकृत होना सामाजिक सम्मान का विषय बन चुका है, इस सम्मान को पाने और प्रदेश के चौमुखी विकास में अपनी महती भूमिका निभाने के लिए प्रत्येक व्यापारी को जीएसटी में पंजीयन लेना चाहिए। उक्त आव्हान वाणिज्य कर विभाग के जोनल एडीशनल कमिश्नर एमपी सिंह ने गंगा शापिंग काम्पलैक्स में पंजीकृत व्यापारियों की संख्या बढाये जाने के उद्देश्य से आयोजित मेगा सेमीनार में किया।
 
GST
 

नोएडा (उत्तराखंड पोस्ट) किसी भी व्यापारी के लिए जीएसटी में पंजीकृत होना सामाजिक सम्मान का विषय बन चुका है, इस सम्मान को पाने और प्रदेश के चौमुखी विकास में अपनी महती भूमिका निभाने के लिए प्रत्येक व्यापारी को जीएसटी में पंजीयन लेना चाहिए। उक्त आव्हान वाणिज्य कर विभाग के जोनल एडीशनल कमिश्नर एमपी सिंह ने गंगा शापिंग काम्पलैक्स में पंजीकृत व्यापारियों की संख्या बढाये जाने के उद्देश्य से आयोजित मेगा सेमीनार में किया।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने विभाग के अधिकारियों को प्रदेश में पंजीकृत व्यापारियों की संख्या 25 लाख किये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। जिसकी प्राप्ति के लिए नोएडा में खण्ड स्तर के अधिकारी 8 नवम्बर से विभिन्न बाजारों, शापिंग कम्पलैक्सों में प्रतिदिन पंजीयन कैम्प आयोजित कर अपंजीकृत व्यापारियों को पंजीयन लेने हेतु प्रेरित कर रहे हैं। 

इसी कड़ी में विभाग के जोनल एडीशनल कमिश्नर एमपी सिंह ने इस अभियान की कमान सीधे अपने हाथ में लेते हुए विभिन्न व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारियों से सामन्जस स्थापित करते हुए मेगा सेमीनार का आयोजन किया। 

मेगा सेमीनार में ज्वाइन्ट कमिश्नर कार्यपालक मुकेश चन्द्र पाण्डे ने व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों को सम्बोधत करते हुए कहा कि जीएसटी में पंजीयन प्राप्त करने वाले व्यापारियों को बिना कोई प्रीमियम दिये 10 लाख के व्यापारी दुर्घटना का लाभ प्राप्त होता है, इसके अतिरिक्त किसी भी कार्य हेतु सरकारी कार्यालय आने की आवश्यकता नहीं रहती है विभाग से सम्बन्धित समस्त कार्य ऑनलाईन किये जा रहे हैं । रूपये 1.5 करोड़ के वार्षिक टर्नओवर के व्यापारियों के लिए सरकार द्वारा समाधान योजना लाई गयी है तथा रूपये 5 करोड़ के वार्षिक टर्नओवर के व्यापारियों को त्रैमासिक आधार पर रिटर्न दाखिल की सुविधा प्रदान की गयी है। 

उल्लेखनीय है कि जीएसटी पंजीयन व्यापारी के सम्मान का प्रतीक होने के साथ ही व्यापारिक उन्नति का प्रथम सोपान  भी है जिसमें जीएसटी लागू होने के बाद पूरे देश में कहीं से भी की खरीद पर इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ मिलता है। पाण्डे ने व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों से अनुरोध किया कि वह अपने स्तर पर अपंजीकृत व्यापारियों को पंजीयन लेने हेतु प्रोत्साहित कर विभाग को सहयोग करे।

पाण्डेय ने यह भी कहा कि अपंजीकृत व्यापारियों को पंजीयन प्राप्त करने में कोई असुविधा न हो, इसके लिए नोएडा में सेक्टर-29, सैक्टर-148, सैक्टर-18 एवं ग्रेटर नोएडा में सूरजपुर में वाणिज्य कर पंजीयन हेल्प डैस्क स्थापित की गयी है । इन डैस्कों पर व्यापारियों का समुचित मार्गदर्शन करने के लिए डिप्टी कमिश्नर शैफाली दीक्षित, मनोज सिंह, एसपी सिंह एवं सुरभि गंगवार को प्रभारी बनाया गया है। 

इस मेगा सेमीनार में लघु उद्योग भारती के नगर अध्यक्ष अमित गोयल, सचिव सतवीर, एमएसएमई के उपाध्यक्ष राजकुमार जयसवाल महामंत्री पीएवं सोलंकी, महिला प्रकोष्ठ प्रभारी कुमकुम भटनागर कोषाध्यक्ष रमेश राठौर, उत्तर प्रदेश व्यापार मण्डल के अध्यक्ष नरेश कुच्छल, सत्यवीर आदि ने पंजीयन अभियान को प्रभावी बनाने हेतु अपने सुझाव दिये और विभाग द्वारा चलाये जा रहे पंजीयन अभियान में अधिकतम योगदान दिये जाने का आश्वासन दिया इस मेगा सेमिनार में विभिन्न व्यापारिक संगठनों के 80 से अधिक प्रतिनिधियों की उपस्थिति रही।

From around the web