कोरोना की दूसरी लहर ने मचाया कोहराम, PM मोदी ने कहा तत्काल रोकना होगा

कोरोना के बढ़ते मामलों ने देश की चिंता बढ़ा दी है। हालात को देखते हुए बुधवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। बैठक में PM ने कहा कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर को तत्काल रोकना होगा। साथ ही उन्होंने कोरोना के प्रसार को रोकेने के लिए लागू बचाव संबंधी नियमों को सख्ती से लागू करने, आरटी-पीसीआर और ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन लगाने जैसे सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए हैं।
 
कोरोना की दूसरी लहर ने मचाया कोहराम, PM मोदी ने कहा तत्काल रोकना होगा

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) कोरोना के बढ़ते मामलों ने देश की चिंता बढ़ा दी है। हालात को देखते हुए बुधवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। बैठक में PM ने कहा कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर को तत्काल रोकना होगा। साथ ही उन्होंने कोरोना के प्रसार को रोकेने के लिए लागू बचाव संबंधी नियमों को सख्ती से लागू करने, आरटी-पीसीआर और ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन लगाने जैसे सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैठक में कहा कि दुनिया में कई कोरोना प्रभावित देश ऐसे हैं, जिन्हें कोरोना की कई लहर का सामना करना पड़ा। हमारे देश में भी कई राज्य ऐसे हैं, जिनमें अचानक से कोरोना संक्रमण में वृद्धि देखने को मिली है। पीएम मोदी ने कहा कि महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और पंजाब जैसे कई राज्यों में संक्रमण की दर लगातार बढ़ती जा रही है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर कोरोना की इस लहर को यहीं नहीं रोका गया, तो देशव्यापी असर देखने को मिल सकता है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए ‘टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट’ को लेकर हमें पिछले साल जैसी ही गंभीरता दिखानी होगी। कोरोना संक्रमित व्यक्ति बेहद कम समय में ट्रैक करना और आरटी-पीसीआर जांच दर 70 प्रतिशत से ऊपर रखना बहुत अहम है। पीएम ने कहा कि कोरोना की लड़ाई में हम आज जहां तक पहुंचे हैं, उससे आया आत्मविश्वास, लापरवाही में नहीं बदलना चाहिए। हमें जनता को पैनिक मोड में भी नहीं लाना है और परेशानी से मुक्ति भी दिलानी है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमें छोटे शहरों में टेस्टिंग को बढ़ाना होगा। हमें छोटे शहरों में "रेफरल सिस्टम" और "एम्बुलेंस नेटवर्क" के ऊपर विशेष ध्यान देना होगा ताकि कोरोना वायरस गांव तक अपने पैर न पसार पाए। अगर कोरोना वायरस गांवों तक पहुंच गया, तो मुश्किल खड़ी हो जाएगी।

From around the web