Uttrakhandpost 12 banner 1
Utkarshexpress 1234 banner 2

उत्तराखंड | कोरोना पर भिड़े अखाड़े, बैरागी अखाड़े का संन्यासी अखाड़ों पर बड़ा आरोप

निरंजनी अखाड़े की ओर से बयान दिया गया था कि 14 अप्रैल को हुआ शाही स्नान काफी अहम था, जो पूरा हो गया है। अब कई साधुओं को कोरोना के लक्षण दिखाई दे रहे हैं। ऐसे में हमारे अखाड़े के लिए कुंभ मेला खत्म हो गया है।
 
उत्तराखंड | कोरोना पर भिड़े अखाड़े, बैरागी अखाड़े का संन्यासी अखाड़ों पर बड़ा आरोप

हरिद्वार (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड में कोरोना का कहर जारी है। इस बीच बड़ी खबर है कि कुंभ में कई संत कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। कुंभ में कोरोना किसकी वजह से फैला, इसपर अखाड़े आपस में ही भिड़ गए हैं।

बैरागी अखाड़े का आरोप है कि कुंभ में कोरोना संन्यासी अखाड़े के कारण फैला है। बैरागी अखाड़े के अलावा निर्मोही अखाड़े के अध्यक्ष महंत राजेंद्र दास का कहना है कि कुंभ में बढ़ते संक्रमण के लिए अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि जिम्मेदार हैं।

इस बीच कुछ अखाड़ों ने अपनी ओर से कुंभ समाप्ति की घोषणा कर दी है। बीते दिन निरंजनी अखाड़े ने अपनी ओर से कुंभ समाप्ति की घोषणा की थी लेकिन बैरागी अखाड़े का कहना है कि कोरोना संन्यासी अखाड़ों से फैला है, बैरागी अखाड़े ने इसे नहीं फैलाया है। ऐसे में कोई भी एक या दो अखाड़े कुंभ खत्म करने का फैसला नहीं कर सकते हैं।

निरंजनी अखाड़े की ओर से बयान दिया गया था कि 14 अप्रैल को हुआ शाही स्नान काफी अहम था, जो पूरा हो गया है। अब कई साधुओं को कोरोना के लक्षण दिखाई दे रहे हैं। ऐसे में हमारे अखाड़े के लिए कुंभ मेला खत्म हो गया है।

आपको बता दें कि कुंभ में 14 अप्रैल को ही शाही स्नान हुआ है। इसी के बाद से जो खबरें आने लगी हैं, वो डराने वाली हैं। कुंभ में अभी तक 50 से अधिक साधु कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। बीते 24 घंटे में ही जूना निरंजनी और आह्वान अखाड़े के कई साधु कोरोना की चपेट में आ गए थे।

From around the web