मकर संक्रांति पर बन रहा खास योग, जानिए शुभ मुहूर्त और महत्व

  1. Home
  2. Mera Uttarakhand

मकर संक्रांति पर बन रहा खास योग, जानिए शुभ मुहूर्त और महत्व

makar

हर वर्ष मकर संक्रांति का त्योहार 14 जनवरी को मनाया जाता है लेकिन इस बार हिंदू पंचांग के अनुसार, सूर्य 14 जनवरी 2023 की रात 8 बजकर 43 मिनट पर मकर राशि में प्रवेश करेंगे। ऐसे में उदया तिथि के कारण 15 जनवरी को मकर संक्रांति मनाई जाएगी।


देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट)  हर वर्ष मकर संक्रांति का त्योहार 14 जनवरी को मनाया जाता है लेकिन इस बार हिंदू पंचांग के अनुसार, सूर्य 14 जनवरी 2023 की रात 8 बजकर 43 मिनट पर मकर राशि में प्रवेश करेंगे। ऐसे में उदया तिथि के कारण 15 जनवरी को मकर संक्रांति मनाई जाएगी।

 

मकर संक्रांति के दिन स्नान दान का विशेष महत्व है। उत्तराखंड में जहां उत्तरायणी त्योहार के रूप में मनाया जाता है तो वहीं उत्तर प्रदेश में खिचड़ी, दक्षिण में मकर संक्रांति को पोंगल के रूप में मनाया जाता है. मकर संक्रांति का त्योहार धार्मिक, ज्योतिषीय और सांस्कृतिक नजरिए से भी खास होता है. इस दिन सूर्य उत्तरायण दिशा में प्रवेश करते हैं. इस दिन से विवाह, गृह प्रवेश, यज्ञोपवीत संस्कार जैसे मांगलिक व शुभ कार्य पुनः शुरू हो जाते हैं.

 

पूजा विधि-

  • इस दिन सूर्योदय से पहले उठकर सभी कामों से निवृत्त होकर स्नान आदि करके साथ-सुथरे वस्त्र धारण कर लें।
  • अगर आप गंगा स्नान कर लें, तो आप भी बेहतर है। लेकिन किसी कारणवश गंगा स्नान के लिए नहीं जा पा रहे हैं, तो घर में ही नहाने के पानी में थोड़ा सा गंगाजल डाल लें।
  • स्नान करने के बाद भगवान सूर्यदेव की विधिवत पूजा करनी चाहिए। इसके लिए एक तांबे के लोटे में जल, थोड़ा तिल, सिंदूर, अक्षत और लाल रंग का फूल डालकर अर्घ्य दें। इसके साथ ही भोग लगाएं।
  • पूजा पाठ करने के बाद अपनी योग्यता के अनुसार दान करें।
  • मकर संक्रांति के दिन मुहूर्त पर अन्न, तिल, गुड़, वस्त्र, कंबल, चावल, उड़द की दान, मुरमुरे के लड्डू आदि का दान करें। ऐसा करने से सूर्य के साथ-साथ शनिदेव भी प्रसन्न होंगे।

उत्तराखंड राज्य के कुमाऊं में मकर संक्रांति पर 'घुघुतिया' के नाम एक त्योहार मनाया जाता है। इस त्योहार की अपनी अलग ही पहचान है। लोग मकर संक्रांति की पूर्व संध्या पर गुड़ के पानी से आटा बनाकर उसके घुघते बनाए जाते हैं। घुघुतिया के दूसरे दिन बच्चे काले कौआ, घुघुती माला खाले की आवाज लगाकर कौए को बुलाते हैं।

uttarakhand postपर हमसे जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक  करे , साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमे गूगल न्यूज़  google newsपर फॉलो करे