केजरीवाल के वादों पर पॉलीटिक्ल सवाल ! क्या ऐतबार करेगा उत्तराखंड की जनता ?

चुनावी मौसम में आम आदमी पार्टी ने उत्तराखंड के लोगों से वादे तो बड़े-बड़े किए हैं, ऐसे में देखना ये होगा कि उत्तराखंड की जनता आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल के वादों पर कितना ऐतबार करती है।
 
Kejriwal

 

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड के हल्दवानी में रोजगार के मुद्दे पर बड़ा ऐलान करने वाले आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अऱविंद पर बीजेपी और कांग्रेस ने तीखा प्रहार किया है। एक तरह कांग्रेस ने आम आदमी पार्टी पर कांग्रेस के असम का घोषणापत्र कॉपी करने का आरोप लगाया है तो रोजगार के मुद्दे पर भी आम आदमी पार्टी को घेरा है, वहीं बीजेपी ने कहा कि दिल्ली मॉडल दिल्ली में ही फेल हो गया है और आप अन्य राज्यों में इसे लागू करने का शिगूफा छोड़ रही है।

भाजपा अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि आम आदमी पार्टी को लोक लुभावन घोषणा के बजाय जमीनी स्तर पर बात करनी चाहिए। उन्होनें कहा कि दिल्ली मॉडल दिल्ली में ही फेल हो गया है और आप अन्य राज्यों में इसे लागू करने का शिगूफा छोड़ रही है। उन्होंने कहा कि क्षेत्रफल और जनसंख्या के लिहाज से दिल्ली में कितना विकास हुआ और आम आदमी पार्टी का इसमें कितना योगदान है इस पर ध्यान देने की जरुरत है। उत्तराखंड में रोजगार और वेरोजगारी भत्ता देने की बात करने वाली आप ने दिल्ली में कितना रोजगार और भत्ता दिया यह भी देखने का सवाल है। उन्होंने कहा कि घोषणा और वायदे में फर्क है क्योंकि कहना आसान है और करना कठिन। भाजपा घोषणा के साथ उनके क्रियान्वयन में भरोसा रखती है। दूसरे राज्य में आकर कुछ वायदे करने से बेहतर पहले अपने यहाँ पर ध्यान देने की जरुरत है,क्योंकि हकीकत सबको पता है।

उत्तराखंड कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा- अरविंद केजरीवाल जी ने असम कांग्रेस के घोषणा पत्र को चोरी करके आज उत्तराखंड में पढ़ दिया। साथ ही लिखा- भाजपा और AAP दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। जिसके पास ना तो नीति है और ना ही जनमानस के लिए काम करने की नियति हैं। दोनों सिर्फ घोषणावीर है। जनता के सामने दोनों पार्टियां बेनकाब हो चुकी हैं।


 

वहीं दिल्ली में कांग्रेस नेता और पूर्व विधायक आदर्श शास्त्री ने ट्वीट कर कहा- झूठ फैलाने से पहले अऱविंद केजरीवाल ये तो बता के जाते कि 7 सालों में दिल्ली में केवल 378 लोगों, वो भी अधिकांश अपनी मंडली, को ही रोजगार दिया। वादा तो 8 लाख लोगों को रोजगार देने का था? क्या हुआ? भूल गए? भूल गए दिल्ली के बेरोजगार? हद है बेशर्मी की।


 

उत्तराखंड कांग्रेस प्रभारी देवेद्र कुमार ने भी अरविंद केजरीवाल पर तंज कसते हुए कहा केजरीवाल जी दिल्ली में नहीं याद आई 'हर घर रोजगार' योजना। सही कहा है किसी ने 'नकल में भी अक्ल चाहिए'!


 

आपको बता दें कि अरविंद केजरीवाल ने रविवार को हल्द्वानी में प्रेस कांफ्रेंस करते हुए वादा किया कि उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर उत्तराखंडवासियों को मेरी 6 गारंटी, AAP की सरकार बनने पर हर घर रोज़गार, तक हर महीने 5 हज़ार। नौकरियों में उत्तराखंडियों को 80% आरक्षण। सरकार बनने पर 6 महीने में 1 लाख सरकारी नौकरी। प्राइवेट सेक्टर में नौकरियों के लिए जॉब पोर्टल और पलायन रोकने के लिए रोज़गार एवं पलायन मंत्रालय का गठन किय जाएगा।

केजीरावल ने इन्हीं वादों पर तंज कसते हुए कांग्रेस और बीजेपी ने आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है।


 

चुनावी मौसम में आम आदमी पार्टी ने उत्तराखंड के लोगों से वादे तो बड़े-बड़े किए हैं, ऐसे में देखना ये होगा कि उत्तराखंड की जनता आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल के वादों पर कितना ऐतबार करती है।

From around the web