उत्तराखंड | हरदा ने लिए केजरीवाल के मजे, अपने बेटे आनंद रावत का दिया ये उदाहरण

हरदा ने कहा कि दिल्ली से आये एक मेहमान नेता ने दावा किया कि उनके उत्तराखंडी सहयोगी ने 10,000 से ज्यादा लड़कों को आर्मी ट्रेनिंग दी है और उन्हें भर्ती किया है। जरा पिछले 5 साल में आर्मी में भर्ती के आंकड़े देख लीजिये तो नेताजी के दावे की हकीकत सामने आ जायेगी।

 
Harish Arvind

 

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस के अघोषित सीएम चेहरे हरीश रावत ने बिना नाम लिए आम आदमी पार्टी पर तीखा प्रहार किया है।

हरदा ने कहा कि दिल्ली से आये एक मेहमान नेता ने दावा किया कि उनके उत्तराखंडी सहयोगी ने 10,000 से ज्यादा लड़कों को आर्मी ट्रेनिंग दी है और उन्हें भर्ती किया है। जरा पिछले 5 साल में आर्मी में भर्ती के आंकड़े देख लीजिये तो नेताजी के दावे की हकीकत सामने आ जायेगी।

नीचे क्लिक कर जानिए केजरीवाल ने कैसा रोजगार प्लान बताया था-

हरीश रावत तत्कालीन कांग्रेस सरकार का हवाला देते हुए कहा- जहां लड़के-लड़कियों को प्रशिक्षण देने का सवाल है, हमारी सरकार ने 2016 में आर्मी के सेवानिवृत्त जेसीओज को कॉलेजों में जाकर ये प्रशिक्षण देने की योजना प्रारंभ की थी, जिसे वर्तमान सरकार ने बंद कर दिया। फिर मेरे बेटे आनंद रावत भी लड़के-लड़कियों को इस प्रकार का प्रशिक्षण देते रहते हैं, जिसकी कुछ फोटोज मैं प्रस्तुत कर रहा हूं, मगर आनंद तो विधायक के भी उम्मीदवार नहीं हैं।

हरदा ने तंज कसते हुए कहा- नेताजी से कोई सवाल यह तो करें कि दिल्ली में पिछले साढे़ 7 साल में उनकी सरकार ने कितनी नौकरियां दी हैं? और दिल्ली में 3 वर्ष तो पूरी तरीके से नौकरी विहीन रहे मतलब सरकारी नौकरियों में कहीं भी भर्ती नहीं हुई और अब भी एक संख्या ऐसी है जिनको मानदेय देकर के नौकरी की केवल पूर्ति की जा रही है तो कथनी और करनी का अंतर समझने के लिए ये काफी है।

From around the web