जोशीमठ में CM धामी का आज दूसरा दिन, आज ये रहेगा कार्यक्रम

  1. Home
  2. Uttarakhand
  3. Chamoli

जोशीमठ में CM धामी का आज दूसरा दिन, आज ये रहेगा कार्यक्रम

DHAMI

जोशीमठ में अंतरिम मुआवजे के ऐलान के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपने सभी कार्यक्रम स्थगित कर बुधवार को जोशीमठ पहुंचे। बुधवार की रात जोशीमठ में रात्रि प्रवास करने के बाद मुख्यमंत्री धामी ने गुरुवार को अपने दिन की शुरुआत नरसिंह मंदिर में भगवान की पूजा अर्चना से की।


जोशीमठ (उत्तराखंड पोस्ट) जोशीमठ में अंतरिम मुआवजे के ऐलान के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपने सभी कार्यक्रम स्थगित कर बुधवार को जोशीमठ पहुंचे। बुधवार की रात जोशीमठ में रात्रि प्रवास करने के बाद मुख्यमंत्री धामी ने गुरुवार को अपने दिन की शुरुआत नरसिंह मंदिर में भगवान की पूजा अर्चना से की।

बता दें कि भू-धंसाव के संकट का सामना कर रहे जोशीमठ में आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी स्थित नृसिंह मंदिर परिसर में दरारें आ गई हैं। बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने के बाद शंकराचार्य की गद्दी नृसिंह मंदिर में विराजमान रहती है। सीएम धामी आज यहां हालात का जायजा लेने पहुंचे हैं।

बता दें कि धामी 12 जनवरी को मुख्यमंत्री आईटीबीपी सभागार, जोशीमठ में विभिन्न बैठक करेंगे। मुख्यमंत्री भू-धंसाव से प्रभावित परिवारों को अन्तरिम पैकेज के पारदर्शी वितरण एवं पुर्नवास पैकेज की दर निर्धारित किये जाने हेतु गठित समिति की बैठक के साथ ही सेना के अधिकारियों व आईटीबीपी के अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। एनडीआरएफ के अधिकारियों के साथ बैठक भू-धंसाव की जांच में लगे विभिन्न प्रतिष्ठानों के वैज्ञानिकों के साथ बैठक करेंगे। मुख्यमंत्री जिला प्रशासन, पुलिस व अन्य आवश्यक सेवाओं के जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ भी स्थिति की समीक्षा करेंगे। मुख्यमंत्री पार्टी पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं के साथ भी बैठक करेंगे।

इससे पहले बुधवार को जोशीमठ पहुंचे CM धामी ने ग्राउंड जीरो पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया। इस दौरान धामी प्रभावितों से भी मिले और उनको भरोसा भी दिलाया। कड़कड़ाती ठंड में देर रावत मुख्यमंत्री को अपने पास पाकर जोशीमठ के प्रभावित को हौंसला जरूर मिला होगा। सीएम धामी ने प्रभावितों से मिलकर कहा कि एक-एक पल की रिपोर्ट लेने आया हूं। मेरी पहली चिंता आज सिर्फ जोशीमठ है। सुबह से कई कार्यक्रम लगे थे। लेकिन उन्हें लगा कि इस संकट की घड़ी में प्रभावित परिवारों के साथ रहना चाहिए। भू-धंसाव से प्रभावित प्रत्येक परिवार को राहत देना सरकार का पहला लक्ष्य है। सभी भवनों को तोड़ना सरकार का लक्ष्य नहीं है। सरकार ने प्रभावितों के पुनर्वास व मुआवजे के लिए कमेटी बना दी है।  सीएम धामी ने कहा कि पल पल के घटनाक्रम और कार्रवाई पर केंद्रीय नेतृत्व नजर बनाए हुए है। सीएम धामी ने कहा कि पीएम मोदी और गृह मंत्री शाह वे वह लगातार संपर्क में हैं। हालातों के बारे में अहम जानकारियां साझा कर रहे हैं। सीएम धामी ने बताया कि केंद्र सरकार भी न केवल इस भूगर्भीय-प्राकृतिक संकट के समय, राहत व बचाव कार्यों पर करीबी नजर रख रही है बल्कि हमारी आवश्यक सहायता भी कर रही है।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री दूसरी बार ग्राउंड जीरो पर उतरे है। इस दौरान उन्होंने प्रभावितों के बीच जाकर यह संदेश का प्रयास किया कि कठिन समय में सरकार साथ खड़ी है। बता दें कि मुआवजे को लेकर प्रभावित परिवार सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रशासन की ओर से असुरक्षित भवनों को गिराने की कार्रवाई का लोग विरोध कर रहे हैं। प्रभावितों के गुस्से को देखते हुए मुख्यमंत्री धामी खुद ने ही मोर्चा संभाला है।

uttarakhand postपर हमसे जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक  करे , साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमे गूगल न्यूज़  google newsपर फॉलो करे