उत्तराखंड | डोमिनोज पिज्जा को एक गलती पड़ी भारी, अब देगा होगा 9 लाख से ज्यादा का हर्जाना

  1. Home
  2. Uttarakhand
  3. Haridwar

उत्तराखंड | डोमिनोज पिज्जा को एक गलती पड़ी भारी, अब देगा होगा 9 लाख से ज्यादा का हर्जाना

pizza

पिज्जा कंपनी डोमिनोज को एक गलती की वजह से उत्तराखंड में भारी भरकम हर्जाना देना पड़ेगा । उसे 9 लाख रुपए से ज्यादा का मुआवजा ग्राहक को देना होगा।


 

रुड़की (उत्तराखंड पोस्ट) पिज्जा कंपनी डोमिनोज को एक गलती की वजह से उत्तराखंड में भारी भरकम हर्जाना देना पड़ेगा । कंपनी को 9 लाख रुपए से ज्यादा का मुआवजा ग्राहक को देना होगा।

 

 जिला उपभोक्ता आयोग ने अपने एक फैसले में उपभोक्ता द्वारा डोमिनोज पिज्जा कंपनी को शाकाहारी पिज्जा ऑर्डर करने पर कंपनी द्वारा लापरवाही के तहत शाकाहारी के बजाए मांसाहारी पिज्जा भेज देने पर 9 लाख 65 हजार 918 रुपये का हर्जाना लगाया है।

 

 

बता दें कि मामला 2020 का है। रुड़की के साकेत कालोनी निवासी शिवांग मित्तल ने 26 अक्टूबर 2020 को शाम 8:30 बजे ऑनलाइन पिज्जा टाको और चोको लावा केके लिए ऑर्डर किया। डोमिनोज पिज्जा का कर्मचारी पैकेट लेकर आया। उन्होंने शाकाहरी पिज्जा की 918 रुपये की कीमत भी अदा कर दी। इसके बाद उन्होंने पैकेट को खोला तो उसमें अजीब सी गंद आई इसके बाद शिवांग को उल्टियां हुई और तबीयत बिगड़ गई। शिवांग मित्तल ने बताया कि उनके परिवार में कोई नोनवेज नहीं खाता है।

बताया कि कंपनी की ओर से मांसाहारी पिज्जा भेजकर उनका धर्म भ्रष्ट किया गया जिससे वो आहत हैं। उन्होंने पिज्जा कंपनी के खिलाफ गंगनहर कोतवाली पुलिस को शिकायत की। उनका आरोप है कि पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद उन्होंने विभिन्न विभागों को शिकायत भी की, लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया।

 

इसके बाद शिवांग मित्तल ने इस मामले में 3 फरवरी 2021 को जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोष आयोग में शिकायत की। आयोग ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद पाया कि पिज्जा कंपनी की ओर से शाकाहारी पिज्जा ऑर्डर करने पर मांसाहारी पिज्जा भेजा गया। जो उपभोक्ता सेवा में घोर लापरवाही है।

आयोग ने पिज्जा कंपनी को आदेश दिया है कि वह उपभोक्ता को पिज्जा की कीमत 918 रुपये मय 6% वार्षिक ब्याज के साथ ही मानसिक, शारीरिक और आर्थिक क्षतिपूर्ति के रूप में साढ़े चार लाख रुपये और विशेष हर्जे के रूप में 5 लाख रुपये का भुगतान करें। डोमिनोज पिज्जा कंपनी को कुल 9,65,918 रुपये का भुगतान करना होगा।। कंपनी को यह भुगतान एक महीने के अंदर करना होगा।