जानिए चौबट्टाखाल में क्या होगा, चुनाव जीत पाएंगे सतपाल महाराज ?

पुराने कांग्रेसी रहे सतपाल महाराज को भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने की स्थिति में मुख्यमंत्री का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। अब ख़बरें एक क्लिक पर इस लिंक पर क्लिक कर Download करें Mobile App –https://play.google.com/store/apps/details?id=app.uttarakhandpost

शायद यही वजह भी है कि भाजपा ने टिकट बंटवारे में सतपाल महाराज को उनकी पसंद की सीट देने के लिए अपने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और मौजूदा विधायक तीरथ सिंह रावत तक का टिकट काट दिया। हालांकि डेमैज कंट्रोल के तहत बीजेपी ने तीरथ सिंह रावत को पार्टी का राष्ट्रीय सचिव बनाकर उनकी नाराजगी दूर करने की कोशिश की है लेकिन इस सीट पर भाजपा की मुश्किलें फिर भी आसान नहीं हुई हैं।

सतपाल को चौबट्टाखाल विधानसभा सीट से टिकट जरुर मिल गया है लेकिन यहां पर उनकी जीत की राह आसान इसलिए नहीं है क्योंकि इस सीट से ही भाजपा के टिकट के एक और दावेदार कवींद्र ईष्टवाल निर्दलीय के रुप में मैदान में जमे हुए हैं और वे यहां पर सतपाल महाराज की जीत की राह का रोड़ा बन सकते हैं।

satpal

2012 के विधानसभा चुनाव के नतीजे देखने पर साफ होता है कि इस सीट पर जीत भाजपा ने जरुर दर्ज की थी लेकिन जीत का अंतर सिर्फ 1964 वोटों का था। ऐसे में इस बार भाजपा के बागी के मैदान में होने से भाजपा उम्मीदवार की मुश्किलें बढ़ना तय है।

2012 chauba

पिछले चुनाव में दूसरे नंबर पर रहे कांग्रेस के प्रत्याशी राजपाल बिष्ट ने भाजपा के तीरथ सिंह को कड़ी टक्कर दी थी। इस बार भी सतपाल महाराज के मुकाबले कांग्रेस ने राजपाल बिष्ट पर ही दांव खेला है ऐसे में प्रदेश की हॉट सीट में शुमार हुए चौबट्टाखाल विधानसभा में इस बार जीत का सेहरा किसके सिर बंधेगा ये देखना रोचक होगा।

जानिए क्या है वोट प्रतिशत बढ़ने के मायने, किसकी बनेगी सरकार ?