चारधाम यात्रा | अब तक 28 तीर्थयात्रियों की मौत, बुजुर्गों की जान पर भारी पड़ रही यात्रा

  1. Home
  2. Dehradun

चारधाम यात्रा | अब तक 28 तीर्थयात्रियों की मौत, बुजुर्गों की जान पर भारी पड़ रही यात्रा

Chardham Yatra

चार धाम यात्रा की शुरुआत के साथ ही लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं का उत्तराखंड पहुंचने का सिलसिला शुरु हो गया है। चिंता की बात यहा है कि चारधाम यात्रा में तीर्थयात्रियों की मौतें का आंकडा भी लगातार बढ़ रहा है। अब तक मृतकों की संख्या 28 हो गई है।चार धाम यात्रा की शुरुआत के साथ ही लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं का उत्तराखंड पहुंचने का सिलसिला शुरु हो गया है। चिंता की बात यहा है कि चारधाम यात्रा में तीर्थयात्रियों की मौतें का आंकडा भी लगातार बढ़ रहा है। अब तक मृतकों की संख्या 28 हो गई है।


 

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) चार धाम यात्रा की शुरुआत के साथ ही लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं का उत्तराखंड पहुंचने का सिलसिला शुरु हो गया है। चिंता की बात यहा है कि चारधाम यात्रा में तीर्थयात्रियों की मौतें का आंकडा भी लगातार बढ़ रहा है। अब तक मृतकों की संख्या 28 हो गई है।

बता दें कि बुजुर्ग तीर्थयात्रियों की जान पर यात्रा भारी पड़ रही है। 60 वर्ष से ऊपर आयु के 13 यात्रियों की मौतें हुई है। स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. तृप्ति बहुगुणा ने कहा कि यात्रा के दौरान जो भी मौतें हुई हैं, वह पैदल रूट पर हुईं। हार्ट अटैक व अन्य बीमारियां मौत का कारण रही हैं। किसी भी यात्री की अस्पतालों में मौत नहीं हुई है। चारधाम यात्रा मार्ग के अस्पतालों व मेडिकल कैंपों में सभी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध हैं।

रुद्रप्रयाग, चमोली व उत्तरकाशी जिलों से आई रिपोर्ट के अनुसार 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में 13 यात्रियों की मौत हुई है जबकि 50 से 60 आयु वर्ग में सात, 40 से 50 आयु वर्ग में चार और 30 से 40 आयु के तीन तीर्थयात्रियों की मौत हुई है।

महानिदेशक ने कहा कि परिजनों की इच्छा के अनुसार पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। कई मृतकों के परिजन पोस्टमार्टम नहीं करना चाहते हैं। जिनके पोस्टमार्टम में मौत के सही कारणों का पता नहीं लग पाता है, उनका बिसरा सुरक्षित रखा जा रहा है।