हरिद्वार महाकुंभ | इस बार क्यों 11 साल में ही आयोजित हो रहा है कुंभ ? जानिए

आमतौर पर महाकुंभ 12 साल में एक बार आता है और 6 साल में आता है अर्द्धकुंभ लेकिन इस बार ग्रहों और नक्षत्रों से ऐसा संयोग बना है कि 2021 की शुरुआत में हरिद्वार में होने वाला महाकुंभ 11वें साल में ही आयोजित हो रहा है।
 
हरिद्वार महाकुंभ | इस बार क्यों 11 साल में ही आयोजित हो रहा है कुंभ ? जानिए

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) आमतौर पर महाकुंभ 12 साल में एक बार आता है और 6 साल में आता है अर्द्धकुंभ लेकिन इस बार ग्रहों और नक्षत्रों से ऐसा संयोग बना है कि 2021 की शुरुआत में हरिद्वार में होने वाला महाकुंभ 11वें साल में ही आयोजित हो रहा है।

 हालांकि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है लेकिन ऐसा होता दुर्लभ ही है पिछले डेढ़ सौ साल से ज़्यादा के समय में तीसरी बार ग्रह-नक्षत्र ऐसे बने हैं कि कुंभ 12 के बजाय 11 साल में ही होने जा रहा है ।

ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार हरिद्वार महाकुंभ का योग 2021 में इसलिए बन रहा है क्योंकि मेष राशि में सूर्य और कुंभ राशि में बृहस्पति आने पर महाकुंभ होता है साल 2022 में बृहस्पति कुंभ राशि में नहीं रहेंगे । इसलिए इस बार महाकुंभ का आयोजन एक साल पहले हो रहा है।

महाकुंभ को लेकर श्रद्धालुओं में उल्लास भी है हालांकि Corona महामारी का डर भी है इसलिए बचाव के तरीकों और Guidelines के पालन के साथ 14 जनवरी 2021 से महाकुंभ पर्व का शुभारंभ होगा। यह 48 दिनों तक चलेगा ।

कुंभ मेला 2021 की शाही स्नान की तारीख

  • पहला शाही स्नान- 11 मार्च शिवरात्रि
  • दूसरा शाही स्नान - 12 अप्रैल सोमवती अमावस्या
  • तीसरा मुख्य शाही स्नान- 14 अप्रैल मेष संक्रांति
  • चौथा शाही स्नान- 27 अप्रैल बैसाख पूर्णिमा

From around the web