मोदी सरकार का बड़ा फैसला- पीएम केयर्स फंड से बनेंगे 551 मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट

देशभर में कोरोना का कहर जारी है। पिछले 24 घंटे में एक बार फिर देश में कोरोना का विस्फोट हुआ है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक बीते 24 घंटे में कोरोना के 3,49,691 नए मामले सामने आए हैं। वहीं 2,767 लोगों की कोरोना के चलते मौत हुई है। बीते 24 घंटे में 2,17,113 लोग ठीक भी हुए हैं।
 
मोदी सरकार का बड़ा फैसला- पीएम केयर्स फंड से बनेंगे 551 मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) देशभर में कोरोना का कहर जारी है। पिछले 24 घंटे में एक बार फिर देश में कोरोना का विस्फोट हुआ है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक बीते 24 घंटे में कोरोना के 3,49,691 नए मामले सामने आए हैं। वहीं 2,767 लोगों की कोरोना के चलते मौत हुई है। बीते 24 घंटे में 2,17,113 लोग ठीक भी हुए हैं।

साथ ही ऑक्सीजन की किल्लत ने देश की मुश्किल बढ़ा दी है। अब इससे निपटने के लिए केंद्र सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। पीएम मोदी ने देश में ऑक्सीजन की किल्लत कम करने को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है। देश में पीएम केयर्स फंड से सरकारी अस्पतालों में 550 से अधिक ऑक्सीजन उत्पादन प्लांट स्थापित किए जाएंगे।

पीएमओ की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक पीएम मोदी ने देश में पीएम केयर्स फंड से 551 मेडिकल ऑक्सीजन बनाने वाले प्लांट को मंजूरी दे दी है। पीएमओ ने बताया कि अस्पतालों में ऑक्सीजन की उपलब्धता को बढ़ाने की दिशा में पीएम मोदी के दिशा निर्देश के अनुरूप, पीएम CARES फंड से सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं के अंदर 551 समर्पित चिकित्सा ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की स्थापना के लिए धन के आवंटन के लिए सैद्धांतिक मंजूरी दी है। पीएमओ ने बताया कि पीएम ने निर्देश दिया है कि इन पौधों को जल्द से जल्द कार्यात्मक बनाया जाना चाहिए। ये समर्पित संयंत्र विभिन्न राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों में जिला मुख्यालय में चिह्नित सरकारी अस्पतालों में स्थापित किए जाएंगे। खरीद स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के माध्यम से की जाएगी।

पीएमओ ने आगे बताया कि जिला मुख्यालय में सरकारी अस्पतालों में पीएसए ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट स्थापित करने के पीछे मूल उद्देश्य सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली को और मजबूत करना है और यह सुनिश्चित करना है कि इनमें से प्रत्येक अस्पताल में कैप्टिव ऑक्सीजन पीढ़ी की सुविधा है। पीएमओ ने बताया कि इन-हाउस कैप्टिव ऑक्सीजन जेनरेशन सुविधा इन अस्पतालों और जिले की दिन-प्रतिदिन की मेडिकल ऑक्सीजन जरूरतों को पूरा करेगी। इसके अलावा, तरल चिकित्सा ऑक्सीजन (एलएमओ) कैप्टिव ऑक्सीजन पीढ़ी के लिए "टॉप अप" के रूप में काम करेगा। पीएमओ ने बताया कि इस तरह की प्रणाली यह सुनिश्चित करने में एक लंबा रास्ता तय करेगी कि जिलों के सरकारी अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति में अचानक व्यवधान का सामना न करना पड़े और COVID-19 रोगियों और अन्य रोगियों को प्रबंधित करने के लिए पर्याप्त निर्बाध ऑक्सीजन की आपूर्ति तक पहुंच हो, ऐसे समर्थन की आवश्यकता है।

From around the web