उत्तराखंड | कोरोना कर्फ्यू में मिलेगी ढील, जिम और कोचिंग सेंटर भी खोलने की तैयारी में सरकार

कोरोना के लगातार कम होते मामलों के बीच उत्तराखंड से बड़ी ख़बर है। बताया जा रहा है कि उत्तराखंड में साप्ताहिक कोविड कर्फ्यू को फिलहाल छह जुलाई तक बढ़ाया जाएगा। हालांकि तीरथ सरकार कोविड कर्फ्यू में कुछ और रियायत देने जा रही है।
 
Corona Curfew

 

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) कोरोना के लगातार कम होते मामलों के बीच उत्तराखंड से बड़ी ख़बर है। बताया जा रहा है कि उत्तराखंड में साप्ताहिक कोविड कर्फ्यू को फिलहाल छह जुलाई तक बढ़ाया जाएगा। हालांकि तीरथ सरकार कोविड कर्फ्यू में कुछ और रियायत देने जा रही है।

अब खबर मिल रही है कि उत्तराखंड सरकार मंगलवार से राज्य में बंद जिम और कोचिंग केंद्रों को सशर्त खोलने की अनुमति दे सकती है। मसूरी व नैनीताल व अन्य प्रमुख पर्यटक स्थलों को मंगलवार और बुधवार को बंद रखा जा सकता है। ये पर्यटक स्थल वीकेंड (शनिवार और रविवार को) पर खुलेंगे और यहां इन दोनों दिन पर्यटकों की आवाजाही हो सकेगी।

सरकार के स्तर पर कोविड कर्फ्यू में इस सप्ताह दी जाने वाली ढील पर सहमति बन गई है। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण सोमवार को कोविड कर्फ्यू के संबंध में मानक प्रचालन प्रक्रिया जारी कर देगा। साथ ही इस सप्ताह से राज्य के सभी कोचिंग केंद्रों व जिम को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खोलने की अनुमति दी जा सकती है। इसके अलावा बाजारों के खुलने का समय सुबह आठ बजे से शाम सात बजे तक कर दिया

प्रमुख पर्यटक स्थलों को छोड़कर राज्य के बाकी इलाकों में शनिवार और रविवार को छोड़कर पांच दिन बाजार खोले जा सकेंगे। रविवार को मानक प्रचालन प्रक्रिया जारी नहीं हो सकी। अब यह सोमवार को जारी होगी।

वहीं कोरोना के नए डेल्टा स्वरूप के खतरे को देखते हुए सरकार बाहरी राज्यों के लोगों के राज्य में प्रवेश को लेकर कोई ढील देने को तैयार नहीं है इसलिए कर्फ्यू के दौरान जो बंदिशें बनी हुई हैं, उन्हें जारी रखा जाएगा।

पर्यटन कारोबार को कोविड कर्फ्यू के प्रभाव से बचाने के लिए राज्य सरकार प्रमुख पर्यटक स्थलों को वीकेंड यानी शनिवार और रविवार के लिए खोल सकती है। मसूरी, नैनीताल, लैंसडौन, ऋषिकेश के लक्ष्मण झूला, स्वर्गाश्रम, टिहरी झील समेत अन्य पर्यटक स्थलों को सशर्त खोलने की अनुमति देने पर विचार होगा।

मिल रही जानकारी के अनुसार सरकार अभी सभी सामाजिक, राजनीतिक, खेल गतिविधियों, मनोरंजन, शैक्षिक व सांस्कृतिक समारोह और ऐसे सभी आयोजन जिनमें बड़ी तादाद में भीड़ जुटने की संभावना हो, को खोलने पर विचार नहीं करेगी। साथ ही सभी प्रशिक्षण, कोचिंग संस्थानों को खोलने का भी सरकार का अभी कोई इरादा नहीं है।

शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल का कहना है कि बेशक कोरोना के मामले काफी कम हुए हैं, लेकिन संक्रमण का खतरा अभी नहीं टला है। हमें सावधानी से निर्णय लेने हैं। इसलिए कोविड कर्फ्यू को जारी रखा जाएगा। हालांकि इसमें कुछ और राहत दी जा सकती है। रविवार को इस संबंध में निर्णय ले लिया जाएगा।

From around the web