उत्तराखंड | फिर नाराज़ हुए कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ! क्या ये चाहत होगी पूरी ?

उत्तराखंड से बड़ी खबर मिली है। चुनावी मौसम में धामी सरकार में कैबिनेट मंत्री डॉ हरक सिंह रावत एक बार फिर से भाजपा से नाराज हो गए हैं।
 
HARAK



देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड से बड़ी खबर मिली है। चुनावी मौसम में धामी सरकार में कैबिनेट मंत्री डॉ हरक सिंह रावत एक बार फिर से भाजपा से नाराज हो गए हैं।

दरअसल भाजपा प्रदेश कार्यालय में कोर ग्रुप की महत्वपूर्ण बैठक चल रही है जिसमें उम्मीदवारों के चयन को लेकर और आगामी चुनाव की रणनीति पर चर्चा की जा रही है लेकिन कोर ग्रुप के सदस्य होने के बावजूद कैबिनेट मंत्री डॉ हरक सिंह रावत इस बैठक में शामिल नहीं हुए ।

जानकारी मिल रही है कि हरक सिंह रावत फिर से भाजपा से नाराज हो गए हैं। हरक की नाराजगी की वजह लैंसडाउन विधानसभा सीट मानी जा रही है। दरअसल हरक सिंह रावत लैंसडाउन विधानसभा सीट से अपनी बहू अनुकृति गोसाई को चुनाव लड़ना चाहते हैं। 

आपको बता दें कि लैंसडाउन विधानसभा सीट से अभी बीजेपी के दिलीप रावत विधायक हैं लेकिन हरक की नजर इस विधामसभा सीट पर है, तो ऐसे में दिलीप रावत भी अपनी सीट बचाने के लिए दिल्ली से लेकर देहरादून तक लाबिंग में जुटे हैं।

दिलीप रावत ने इस सीट को लेकर हरक की चाहत के सवाल पर हरक पर तंज भी कसा था और कहा था कि उनकी एक ही पार्टी है और एक ही विधानसभा, दिलीप रावत ने ये तक कहा कि मेरी तो एक ही पत्नी है। 

बताया ये जा रहा है कि डॉ हरक सिंह रावत को पहले भाजपा के कुछ नेताओं ने लैंसडाउन सीट के प्रति आश्वस्त किया था लेकिन उम्मीदवारों की घोषणा की घड़ी जैसे जैसे करीब आ रही है हरक की बैचेनी बढ़ती ही जा रही है। आज की बैठक से हरक की गैर मौजूदगी को भी इसी से जोड़कर देखा जा रहा है।

ऐसे में कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के करीबी लोगों का कहना है कि वह अन्य लोगों के संपर्क में भी हैं और अगले दो दिनों में कुछ बड़ा फैसला ले सकते हैं। 

आपको बता दें कि इससे पहले भी जब कोटद्वार मेडिकल कॉलेज के मुद्दे पर वह नाराज थे।  तो 24 घंटे नजर नहीं आए और उसके बाद 6:30 घंटे मुख्यमंत्री आवास में मीटिंग के बाद ऑल इज वेल कहते हुए नजर आए। एक बार फिर हरक की नाराजगी की खबरें हैं तो देखना ये होगा कि टिकट को लेकर हकक की मांग पूरी होती है या नहीं।

From around the web