बच्चों के लिए जल्द आएगी कोरोना की वैक्सीन ! दिल्ली AIIMS में आज से वैक्सीन ट्रायल शुरू

देश में कोरोना वायरस महामारी के नए मामलों में अब गिरावट दर्ज की जा रही है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1 लाख 1 हजार 159  नए मामले सामने आए हैं।
 
Mask Child

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) देश में कोरोना वायरस महामारी के नए मामलों में अब गिरावट दर्ज की जा रही है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1 लाख 1 हजार 159  नए मामले सामने आए हैं।

विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि कोरोना की दूसरी लहर के बाद अब तीसरी लहर भी जल्द ही देश मे प्रवेश करेगी। विशेषज्ञों ने बताया है कि तीसरी लहर सबसे ज्यादा बच्चों को प्रभावित करेगी। जिसके लिए सरकार ने तैयारी शुरू कर दी है।

अब भारत अब बच्चों को टीका लगाने की तैयारी में है। जिसके लिए दिल्ली एम्स में आज से के बच्चों पर कोरोना की वैक्सीन, कोवैक्सिन का ट्रायल शुरू होने जा रहा है। इस ट्रायल के पहले चरण में कुल 16 बच्चे शामिल होंगे। बता दें कि इससे पहले भारत बायोटेक ने 12 से 18 के बच्चों को लेकर पटना एम्स में वैक्सीन ट्रायल किया गया था।

बता दें कि ट्रायल शुरू करने से पहले बच्चों की अच्छी तरह स्क्रीनिंग की जाएगी जिसमें देखा जाएगा कि वो पूरी तरह से स्वस्थ है या नहीं। स्वस्थ पाए जाने के बाद ही बच्चों को टीका लगाया जाएगा। ट्रायल के दौरान बच्चो को कोवैक्सिन के टीके लगाए जाएंगे।  इससे पहले पटाना के एम्स में यह वैक्सीन ट्रायल चल रहा है जहां 3 जून को बच्चों को टीके की डोज लगाई गई।

ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से अनुमति मिलने के बाद, एम्स दिल्ली अब असल ट्रायल शुरू करने से पहले स्क्रीनिंग शुरू कर रहा है। डीसीजीआई की मंजूरी 12 मई को एक विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) की सिफारिश के बाद आई है। भारत बायोटेक को टीके को बच्चों पर क्लिनिकल ट्रायल करने के लिए 11 मई को DCGI की मंजूरी मिली थी।  जिसके बाद पिछले मंगलवार को एम्स पटना में कोवैक्सिन के लिए बाल चिकित्सा परीक्षण शुरू हुआ।

एम्स, पटना के निदेशक डॉ प्रभात कुमार सिंह ने कहा, "इन परीक्षणों के बाद, आय वर्ग को 6-12 साल और फिर 2-6 साल में बांट दिया जाएगा, लेकिन अभी हमने 12-18 साल के आयु वर्ग में ट्रायल शुरू कर दिए हैं।"

ट्रायल करने से पहले बच्चों की सभी जांच अच्छी तरह से की जा रही है. डॉ. सिंह ने बताया कि ट्रायल के लिए 54 बच्चों ने रजिस्ट्रेश किया था, जिनमें से 12 से 18 साल की उम्र के 16 बच्चे थे। उन्होंने कहा कि शारीरिक परीक्षण के अलावा, इन बच्चों पर कोविड -19 एंटीबॉडी या किसी अन्य पहले से मौजूद बीमारियों की जांच के लिए आरटी-पीसीआर परीक्षण भी किए गए।

From around the web