दूसरी कक्षा के छात्र को प्रिंसिपल ने बालकनी से उलटा लटकाया, किया था ये काम

दूसरी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चे की एक छोटी सी शरारत पर स्कूल के प्रिंसिपल को इतना गुस्सा आ गया कि उसने बच्चे को बालकनी से उलटा लटका दिया और काफी देर तक बच्चे को ऐसे ही रखा। इस घटना के बारे में जिसने भी सुना वह दंग रह गया। और घटना का फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है जिसे देखकर आप भी दंग रह जाएंगे।
 
0000



मिर्जापुर (उत्तराखंड पोस्ट) 
दूसरी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चे की एक छोटी सी शरारत पर स्कूल के प्रिंसिपल को इतना गुस्सा आ गया कि उसने बच्चे को बालकनी से उलटा लटका दिया और काफी देर तक बच्चे को ऐसे ही रखा। इस घटना के बारे में जिसने भी सुना वह दंग रह गया। और घटना का फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है जिसे देखकर आप भी दंग रह जाएंगे।

जानकारी के अनुसार ये पूरा मामला उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर के अहरौरा के सद्भावना स्कूल का है। बच्चे का नाम सोनू यादव है और उसकी उम्र महज 7 साल है। उसकी गलती सिर्फ इतनी थी कि वो स्कूल के बीच में बाहर गोलगप्पे खाने के लिए चला गया था और ये बात प्रधानाचार्य मनोज विश्वकर्मा को पसंद नहीं आई और उन्होंने उसे बालकनी से नीचे लटका दिया। जब यह वाकया हुआ तो आस-पास और भी बच्चे मौजूद थे। इस दौरान बच्चे के छटपटाने और चिल्लाने के साथ माफी मांगने के बाद टीचर ने बच्चे को छोड़ा।

इस दौरान किसी ने फोटो खींच कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया जो बाद में वायरल हो गया। घटना का वीडिया और फोटो जब वायरल हुए तो प्रशासन औश्र पुलिस में हड़कंप मच गया। डीएम के निर्देश पर रात में ही छात्र के पिता की तरहीर पर प्रधानाचार्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

सोनू के पिता रंजीत यादव ने बताया कि स्कूल से वापस आने के बाद सोनू किसी को कुछ भी नहीं बोला और बस रोता रहा। काफी पूछने पर उसने घटना के बारे में बताया। इसी दौरान उसके साथ हुए जुल्म का वीडियो और फोटो भी इंटरनेट पर वायरल हो गए। इसके बाद से ही सोनू चुप है और बुरी तरह से डर गया है।

इस पूरी वारदात के तूल पकड़ने के बाद मनोज विश्वकर्मा भी सफाई देता दिखा। इस संबंध में उससे पूछे जाने पर उसने कहा कि जान बूझकर ऐसा नहीं किया है। गलती से बच्चे को बरामदे से लटा दिया था। इस बात को लेकर बच्चे के अभिभावकों से माफी भी मांग ली है।

वहीं मामले में बीएसएस का कहना है कि प्रकरण संज्ञान में आया है। इस तरह की हरकत बर्दाश्त नहीं की जाएगी. ये एक गंभीर मामला है और पिता की तहरीर पर मामला भी दर्ज किया गया है. अब आगे विधिक कार्रवाई की जाएगी।

दूसरी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चे की एक छोटी सी शरारत पर स्कूल के प्रिंसिपल को इतना गुस्सा आ गया कि उसने बच्चे को बालकनी से उलटा लटका दिया और काफी देर तक बच्चे को ऐसे ही रखा। इस घटना के बारे में जिसने भी सुना वह दंग रह गया। और घटना का फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है जिसे देखकर आप भी दंग रह जाएंगे।

जानकारी के अनुसार ये पूरा मामला उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर के अहरौरा के सद्भावना स्कूल का है। बच्चे का नाम सोनू यादव है और उसकी उम्र महज 7 साल है। उसकी गलती सिर्फ इतनी थी कि वो स्कूल के बीच में बाहर गोलगप्पे खाने के लिए चला गया था और ये बात प्रधानाचार्य मनोज विश्वकर्मा को पसंद नहीं आई और उन्होंने उसे बालकनी से नीचे लटका दिया। जब यह वाकया हुआ तो आस-पास और भी बच्चे मौजूद थे। इस दौरान बच्चे के छटपटाने और चिल्लाने के साथ माफी मांगने के बाद टीचर ने बच्चे को छोड़ा।

इस दौरान किसी ने फोटो खींच कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया जो बाद में वायरल हो गया। घटना का वीडिया और फोटो जब वायरल हुए तो प्रशासन औश्र पुलिस में हड़कंप मच गया। डीएम के निर्देश पर रात में ही छात्र के पिता की तरहीर पर प्रधानाचार्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

सोनू के पिता रंजीत यादव ने बताया कि स्कूल से वापस आने के बाद सोनू किसी को कुछ भी नहीं बोला और बस रोता रहा। काफी पूछने पर उसने घटना के बारे में बताया। इसी दौरान उसके साथ हुए जुल्म का वीडियो और फोटो भी इंटरनेट पर वायरल हो गए। इसके बाद से ही सोनू चुप है और बुरी तरह से डर गया है।

इस पूरी वारदात के तूल पकड़ने के बाद मनोज विश्वकर्मा भी सफाई देता दिखा। इस संबंध में उससे पूछे जाने पर उसने कहा कि जान बूझकर ऐसा नहीं किया है। गलती से बच्चे को बरामदे से लटा दिया था। इस बात को लेकर बच्चे के अभिभावकों से माफी भी मांग ली है।

वहीं मामले में बीएसएस का कहना है कि प्रकरण संज्ञान में आया है। इस तरह की हरकत बर्दाश्त नहीं की जाएगी. ये एक गंभीर मामला है और पिता की तहरीर पर मामला भी दर्ज किया गया है. अब आगे विधिक कार्रवाई की जाएगी।

From around the web