Uttrakhandpost 12 banner 1
Utkarshexpress 1234 banner 2

इलाज ना मिलने से युवक की मौत, शव को ई-रिक्शा में ले जाने पर मजबूर हुई मां

वाराणसी से एक झकझोर देने वाला मामला सामने आया है। यहां यहां किडनी की समस्या से जूझ रहे एक युवक की मौत हो गई, लेकिन अस्पताल से शव ले जाने के लिए कोई एम्बुलेंस नहीं मिली। ऐसे में बेटे की मां ई-रिक्शा में ही शव को लेकर जाने पर मजबूर हो गए। जानकारी के मुताबिक वाराणसी के BHU के सुंदरलाल चिकित्सालय में बुजुर्ग मां अपने बेटे की किडनी की समस्या के इलाज के लिए पहुंची थी। लेकिन वक्त पर इलाज नहीं हो पाया तो बेटे की मौत हो गई।
 
इलाज ना मिलने से युवक की मौत, शव को ई-रिक्शा में ले जाने पर मजबूर हुई मां

वाराणसी (उत्तराखंड पोस्ट) देश में कोरोना वायरस की रफ्तार हर दिन नया रिकॉर्ड बना रही है। एक बार फिर देश में दो लाख से ज्यादा नए कोरोना केस आए हैं। बीते 24 घंटे में पॉजिटिव केसों की संख्या 2 लाख 59 हजार से अधिक पाई गई है।  स्वास्‍थ्‍य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक गुरुवार को देश में कोरोना के 2 लाख 59 हजार 170 नए मामले दर्ज किए गए।

इस बीच पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से एक झकझोर देने वाला मामला सामने आया है। यहां यहां किडनी की समस्या से जूझ रहे एक युवक की मौत हो गई, लेकिन अस्पताल से शव ले जाने के लिए कोई एम्बुलेंस नहीं मिली। ऐसे में बेटे की मां ई-रिक्शा में ही शव को लेकर जाने पर मजबूर हो गए। जानकारी के मुताबिक वाराणसी के BHU के सुंदरलाल चिकित्सालय में बुजुर्ग मां अपने बेटे की किडनी की समस्या के इलाज के लिए पहुंची थी। लेकिन वक्त पर इलाज नहीं हो पाया तो बेटे की मौत हो गई।

मौत के बाद एम्बुलेंस नहीं मिली, तो शव को इस प्रकार पैरों के पास रखकर ई रिक्शा में ले जाना पड़ा। मृतक युवक जौनपुर का निवासी है। युवक मुंबई में काम करता था, लेकिन शादी के किसी कार्यक्रम में भाग लेने के लिए यहां आया हुआ था। जब उसकी तबीयत बिगड़ी तो वाराणसी इलाज के लिए ले जाया गया, लेकिन उसे यहां पर भर्ती नहीं किया गया। ऐसे में युवक की मौत इलाज के इंतजार में हो गई। बता दें कि वाराणसी जिले में बीते दिन 2600 से अधिक केस सामने आए थे और अभी वाराणसी में 16,152 एक्टिव केस हैं। जबकि अबतक यहां पर 525 लोगों की जान चली गई है।

From around the web