दोस्त के फोन में देखा अपनी ही 8 साल की बेटी के रेप का वीडियो, पिता ने कर दी हत्या

एक पिता ने अपनी 8 साल की बेटी से रेप के आरोपी दोस्त को चाकू से गोदकर मार डाला। सनसनी मचा देने वाला ये मामला रूस का है। रॉकेट इंजन फैक्ट्री में काम करने वाला 34 वर्षीय व्याचेस्लाव गांव अपने 32 वर्षीय दोस्त ओलेग स्विरिडोव के साथ शराब पी रहा था। तभी व्याचेस्लाव ने अचानक से ओलेग का मोबाइल लिया और उसे चलाने लगा।

 
Mobile Video



रूस (उत्तराखंड पोस्ट)
एक पिता ने अपनी 8 साल की बेटी से रेप के आरोपी दोस्त को चाकू से गोदकर मार डाला। सनसनी मचा देने वाला ये मामला रूस का है। रॉकेट इंजन फैक्ट्री में काम करने वाला 34 वर्षीय व्याचेस्लाव गांव अपने 32 वर्षीय दोस्त ओलेग स्विरिडोव के साथ शराब पी रहा था। तभी व्याचेस्लाव ने अचानक से ओलेग का मोबाइल लिया और उसे चलाने लगा।

इसी दौरान व्याचेस्लाव की नजर मोबाइल में मौजूद एक वीडियो पर पड़ी। जब उसने वो प्ले की जो उसके पैरो तले जमीन खिसक गई। वो वीडियो व्याचेस्लाव की बेटी का था जिसका ओलेग रेप करता दिखाई दे रहा था। अपनी बेटी के साथ रेप का वीडियो देखकर पिता आगबबूला हो गया और उसकी ओलेग से बहस शुरू हो गई। हालांकि नशे की हालत में व्याचेस्लाव कुछ कर पाता, इससे पहले ही ओलेग वहां से भाग गया।

इसके बाद व्याचेस्लाव ने पुलिस को पूरा मामला बताया और ओलेग के खिलाफ बेटी से रेप की शिकायत दर्ज कराई। लेकिन व्याचेस्लाव अपने दोस्त के इस धोखे को भूल नहीं पा रहा था। इसलिए पुलिस के साथ-साथ उसने भी ओलेग को ढूंढकर सजा देने का फैसला किया, और उसकी तलाश में निकल पड़ा।

एक दिन व्याचेस्लाव का ओलेग से सामना हो गया और व्याचेस्लाव ने चाकू से गोदकर ओलेग की हत्या कर दी। पुलिस को कुछ समय बाद ओलेग का शव पास एक जंगल से बरामद किया। इसके बाद पुलिस ने मामले की जांच की और सबूतों के आधार पर व्याचेस्लाव को हिरासत में ले लिया है।

इस केस में चौंकाने वाली बात ये है कि ओलेग के मोबाइल पर कई और बच्चों के यौन शोषण के वीडियो थे, जिनसे वो पहले भी रेप करके खुलेआम घूम रहा था। इसलिए आज रूस का हर छोटा-बड़ा शख्स उस पिता के पक्ष में खड़ा है। लोगों का कहना है कि उक्त शख्स के खिलाफ मर्डर का केस नहीं चलना चाहिए क्योंकि उसने अपनी बेटी के साथ-साथ समाज के अन्य बच्चों की भी रक्षा की है। वहीं एक अन्य शख्स ने कहा कि व्याचेस्लाव हत्यारा नहीं है। उसने अपनी बेटी और हमारे बच्चों की भी रक्षा की है। उस पर मर्डर केस नहीं चलना चाहिए। व्याचेस्लाव के सपोर्ट में रूस के कई जर्नलिस्ट भी उतर आए हैं और वो भी सजा न देने की मांग कर रहे हैं।

From around the web