उत्तराखंड समेत 5 राज्यों में चुनाव तारीखों का ऐलान, पूरी जानकारी यहां

उत्तराखंड समेत 5 राज्यों (उत्तर प्रदेश, पंजाब, गोवा और मणिपुर) के लिए बहुत बड़ी खबर है। चुनाव आयोग ने इन राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है।
 
Election



देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट
) उत्तराखंड समेत 5 राज्यों (उत्तर प्रदेश, पंजाब, गोवा और मणिपुर) के लिए बहुत बड़ी खबर है। चुनाव आयोग ने इन राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है।

शनिवार को शाम 3:30 बजे दिल्ली में चुनाव आयोग की प्रेस कांफ्रेंस हुई, जिसमें आयोग ने उत्तराखंड समेत 5 राज्यों में चुनाव तारीखों का ऐलान कर दिया है। आपको बता दें कि उत्तराखंड में एक फेस में ही चुनाव होंगे। उत्तराखंड में मतदान 14 फरवरी को होगा जबकि मतगणना 10 मार्च को होगी।

चुनाव आयोग द्वारा चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही इन 5 राज्यों उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, पंजाब, गोवा और मणिपुर में आदर्श आचार संहिता भी लागू हो गयी है।

यूपी में कुल 7 फेज में मतदान होगा।

पहले फेज का मतदान 10 फरवरी को होगा।

दूसरा फेज-14 फरवरी

तीसरा फेज- 20 फरवरी

चौथा फेज- 23 फरवरी

पांचवां फेज- 27 फरवरी

छठा पेज- 3 मार्च

सातवां फेज- 7 मार्च

मतगणना- 10 मार्च

मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्र ने कहा है कि इस बार 5 राज्यों की 690 विधानसभा क्षेत्रों के लिए चुनाव होंगे। उन्होंने कहा कि कोविड सेफ इलेक्शन कराना चुनाव आयोग का उद्देश्य है। CEC ने कहा कि कोरोना काल में चुनाव कराना चुनौती पूर्ण है।

CEC सुशील चंद्र ने कहा कि चुनाव आयोग ने 3 लक्ष्यों पर काम किया है। ये लक्ष्य हैं Covid safe elections, आसान इलेक्शन, और मतदाताओं की ज्यादा से ज्यादा भागीदारी।

CEC सुशील चंद्र ने कहा कि इस बार पांच राज्यों के चुनाव में कुल 18.34 करोड़ मतदाता हैं, इनमें सर्विस मतदाता भी शामिल हैं। इनमें से 8.55 करोड़ महिला मतदाता हैं। कुल 24.9 लाख मतदाता पहली बार वोट डालेंगे। इनमें से 11.4 लाख लड़कियां पहली बार वोटर बनीं हैं। सभी बूथ ग्राउंड फ्लोर पर होंगे, ताकि लोगों को सुविधा हो. बूथ पर सैनिटाइजर, मास्क उपलब्ध होगा।

इस बार 1250 मतदाताओं पर एक बूथ बनाया गया है। पिछले चुनाव की तुलना में 16 फीसदी बूथ बढ़ गए हैं. 1620 बूथ को महिला पोलिंगकर्मी मैनेज करेंगी। 900 आब्जर्बर चुनाव पर नजर रखेंगे। चुनाव आयोग ने सरकारी कर्मचारियों के अलावा 80 साल से ज्यादा उम्र के नागरिकों, दिव्यांगों और कोविड प्रभावित लोगों के लिए पोस्टल बैलेट की व्यवस्था की है।

सभी बूथ पर पुरुष और महिला सुरक्षाकर्मी तैनात होंगे। दिव्यांगों के लिए विशेष इंतजाम होंगे हर बूथ पर. वॉलेंटियर मदद करेंगे। व्हील चेयर भी हर बूथ पर होगी। कोविड प्रभावित या कोविड संदिग्ध के घर वीडीओ टीम के साथ आयोग की टीम विशेष वैन से जाएगी वोट डलवा कर आएगी। इन्हें बैलेट पेपर से वोट डालने का अधिकार मिलेगा।

अपराधिक पृष्ठ भूमि के उम्मीदवारों के लिए अखबार टीवी और मीडिया और वेबसाइट के होम पेज पर तीन बार अलग अलग चरणों पर जानकारी सार्वजनिक करनी होगी। जनता को पता चले कि उनके उम्मीदवार कैसे हैं?

संवेदनशील बूथों पर पूरे दिन वीडीओग्राफी होगी। पांचों राज्यों में एक लाख से ज्यादा बूथों पर लाइव वेबकास्ट होगा। ऑब्जर्वर भी ज्यादा संख्या में तैनात होंगे।

इस बार चुनाव खर्च बढ़ाया गया है। राज्यों के दर्जे के मुताबिक विधायक उम्मीदवार 28 लाख से 40 लाख रुपए चुनाव में खर्च सकता है। आयकर, डीआरआई, रेलवे सहित कई एजेंसियों और संस्थानों को अलर्ट किया गया है कि नशीले पदार्थ, शराब, काला धन या अन्य फोकट में बांटने की चीजें लाने ले जाने वालों पर कड़ी निगाह रखें। चुनाव आयोग ने सुविधा एप बनाया है। इसके जरिए राजनीतिक दल सीधे आयोग को संपर्क कर सकते हैं। C vigil एप जनभागीदारी के लिए बनाया गया है। जनता इसे डाउनलोड कर एमसीसी का कोई भी उल्लंघन का वीडीओ, ऑडियो या सबूत अपलोड कर सकते हैं। शिकायतकर्ता के नाम पते की गोपनीयता के साथ कार्रवाई होगी।

एक अहम ऐलान में चुनाव आयोग ने कहा है कि मतदान के लिए समय को एक घंटा बढ़ा दिया गया है। ऐसा कोरोना की वजह से किया गया है। चुनाव के समय की घोषणा अधिसूचना जारी करने के वक्त की जाएगी।

चुनाव आयोग ने आज से 15 जनवरी तक रोड शो, रैली, साइकिल रैली पद यात्रा तक रोक पूर्ण रुप से रोक लगा दी है। 15 जनवरी के बाद पर इस पर विचार किया जाएगा।

From around the web