कांग्रेस का हाथ छोड़ BJP में शामिल होंगे किशोर! हरीश रावत ने कही बड़ी बात

उत्तराखंड में चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया। अब जल्द ही राज्य की मुख्य विपक्षी  पार्टियां अपने-अपने उम्मीदवारों की सूची जारी कर सकती है। इस बीच उत्तराखंड में बड़े बदलाव की आहट सुनाई देने लगी है। खबर है कि 44 साल तक कांग्रेस का हाथ पकड़कर उसे मजबूती देने वाले किशोर उपाध्याय अब बीजेपी में शामिल हो सकते है।
 
KISHORE


देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड में चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया। अब जल्द ही राज्य की मुख्य विपक्षी  पार्टियां अपने-अपने उम्मीदवारों की सूची जारी कर सकती है। इस बीच उत्तराखंड में बड़े बदलाव की आहट सुनाई देने लगी है। खबर है कि 44 साल तक कांग्रेस का हाथ पकड़कर उसे मजबूती देने वाले किशोर उपाध्याय अब बीजेपी में शामिल हो सकते है।

इसके संकेत लगातार मिल रहे है। किशोर का कांग्रेस के नेताओं के लिए नाराजगी, फिर बीजेपी नेताओं से मुलाकात पर चुप्पी और अब कांग्रेस द्वारा उनके ऊपर की गयी कार्यवाही इस बात के संकेत दे रही है।

दरअसल, कांग्रेस आलाकमान ने कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय को सभी दायित्वों से हटा दिया है. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव ने आदेश भी जारी कर दिए हैं। जारी आदेश में देवेंद्र यादव ने जिक्र किया है कि उत्तराखंड के लोग बदलाव के लिए तरस रहे हैं और बीजेपी सरकार को उखाड़ फेंकने का इंतजार कर रहे हैं। कुशासन और बाजेपी नेतृत्व से लोगों में व्यापक गुस्सा है।

0000

पत्र में कहा गया है कि चुनौती का सामना करना और उत्तराखंड की देवभूमि और यहां के लोगों की सेवा करना हम में से प्रत्येक का कर्तव्य है। लेकिन दुख की बात है कि किशोर उपाध्याय इस लड़ाई को कमजोर करने और लोगों के हितों को कमजोर करने के लिए बीजेपी और अन्य राजनीतिक दलों के साथ मिलनसार हैं।

पत्र में जिक्र किया गया है कि किशोर उपाध्याय को व्यक्तिगत रूप से कई चेतावनियों के बावजूद, इसमें शामिल होने का उनका आचरण पार्टी विरोधी गतिविधियां थमने का नाम नहीं ले रही हैं। जिसके चलते किशोर उपाध्याय को पार्टी के सभी पदों से हटाया जाता है और आगे की कार्रवाई लंबित है।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि  उपाध्याय को पार्टी के प्रति अपना समर्पण रखना चाहिए था। साथ ही कहा कि पार्टी ने अगर इतना बड़ा कदम उठाया है तो कोई बड़ा एविडेंस मिला होगा, जिसके बाद ही उन्हें पार्टी के सभी पदों से हटा दिया गया है। साथ ही कहा कि कुछ दिनों पहले उनका बाजेपी के नेताओं से मिलने का वीडियो सामने आया था, जिससे वो भी आहत हुए थे।

पिछले कई हफ्तों से किशोर के भाजपा जाने की चर्चाओं का बाजार बहुत गर्म था। इसी के बीच उपाध्याय ने साफ किया था कि वह किसी भी सूरत में कांग्रेस छोड़ बीजेपी ज्वाइन नहीं करेंगे। किशोर ने कहा था कि कांग्रेस में रह कर ही वह टिहरी से ही विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। कांग्रेस छोड़ भाजपा में जाने की बातों को उन्होंने अफवाह करार दिया। बता दें कि लंब समय से किशोर के बीजेपी में जानें चर्चा हो रही है।

आपको बता दें कि किशोर उपाध्याय वर्ष 1978 से कांग्रेस से जुड़े हुए हैं। पार्टी के साथ उनका लंबा साथ रहा है। वर्ष 2002 और वर्ष 2007 में वे टिहरी से विधायक रहे। वर्ष 2012 में वे टिहरी से चुनाव हार गए थे। 2017 में वे अपनी परंपरागत सीट टिहरी को छोड़ कर चुनाव लड़ने देहरादून सहसपुर सीट पर पहुंचे। यहां से भी उन्हें हार मिली। 2014 में उन्हें पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया। वे 1991 से ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के सदस्य भी रहे।

From around the web