उत्तराखंड | CM धामी ने बताया कहां से लड़ेंगे चुनाव, क्या इस बार टूटेगा मिथक?

उत्तराखंड में चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया है। उत्तराखंड में एक ही चरण में वैलेनटाइन डे के दिन 14 फरवरी, सोमवार को मतदान होगा और मतों की गिनती 10 मार्च गुरुवार के दिन होगी।
 
0000
 

देहरादून (उत्तराखंड पोस्टउत्तराखंड में चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया है। उत्तराखंड में एक ही चरण में वैलेनटाइन डे के दिन 14 फरवरी, सोमवार को मतदान होगा और मतों की गिनती 10 मार्च गुरुवार के दिन होगी।


चुनाव से पहले सभी पार्टीयां अपनी-अपनी जीत के दावे कर रही है। कांग्रेस को जहां पूरा भरोसा है कि राज्य में सत्ता परिवर्तन होगा तो वहीं भाजपा कह रही है कि इस बार उत्तराखंड में सत्ता परिवर्तन की रवायत टूटेगी और उत्तराखंड में एक बार फिर कमल खिलेगा।

इस बीच उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का बड़ा बयान सामने आया है। धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आने के बाद कई मिथक टूटे हैं। हम उत्तराखंड में भाजपा की सरकार बनाकर मिथक तोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में लोकतंत्र के उत्सव का शुभारंभ हो चुका है। उन्होंने मतदाताओं से चुनाव में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने का आह्वान किया। उन्होंने अपील की कि अधिक संख्या में अपने मताधिकार का प्रयोग करें।

कोरोना की चुनौती पर मुख्यमंत्री विश्वास व्यक्त किया कि जल्द ही इस महामारी को हराने में सफल होंगे। हम सभी कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के नियमों का पूर्णत: पालन करेंगे और लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाएंगे। चुनाव में जाने से पूर्व अपनी सरकार के कामकाज पर उन्होंने कहा कि हमने पांच जनता की सेवा की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में उत्तराखंड के लिए एक लाख करोड़ रुपये की योजनाओं की स्वीकृति हुई।

रेलवे, सड़क, हवाई कनेक्टिविटी की योजनाओं के अलावा किसान, उद्यमी, कारोबारी, व्यापारी, दुकानदार, कमजोर वर्ग, युवा, महिला सहित हर वर्ग के हितों के लिए काम किया। रोजगार देने की शुरुआत की। 21 साल से लंबित परिसंपत्तियों के बंटवारे को निपटाया। हमें पूरा भरोसा है कि भाजपा को फिर से जनता का आशीर्वाद मिलेगा।

धामी ने कहा कि पार्टी अबकी बार साठ पार के नारे को चरितार्थ करेगी। पीएम नरेंद्र मोदी के केंद्र में आने के बाद कई मिथक टूटे, दोबारा सरकार बनाकर हम उत्तराखंड में भी मिथक तोड़ेंगे। राज्य को ऐसी सरकार चाहिए जो केंद्र में भी हो। धामी ने पार्टी का नारा सुनाया, न काले हाथ में आएगी, न झाड़ू पाएगी विकास की लक्ष्मी कमल के फूल पर आएगी।

चुनाव से पहले ये सवाल भी चर्चा में है कि इस बार धामी कहां से चुनाव लड़ेंगे? लेकिन अब इस सवाल का जवाब धामी ने दे दिया है। मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि खटीमा उनका पहला और अंतिम प्यार है। उन्होंने खटीमा विधानसभा से अलग दूसरी विधानसभा से चुनाव लड़ने की चर्चाओं को खालिस अफवाह करार दिया। उन्होंने कहा कि खटीमा उनकी कर्मभूमि है और इसे छोड़कर वह कहीं नहीं जाने वाले।

From around the web