देशभर से अल्मोड़ा घूमने आए थे पर्यटक, बॉर्डर से वापस लौटाए गए 66 लोग, जानिए वजह

कोरोना की दूसरी लहर और देश में तेजी से बढ़ते मामलों ने एक बार फिर हर किसी की चिंता बढ़ा दी है। केंद्र के साथ-साथ राज्य सरकारों की चिंता अब बढ़ गयी है। उत्तराखंड में भी कोरोना के केस अब बढ़ने लगे है। कुंभ की शुरूआत भी हो चुकी है, ऐसे में राज्य सरकार ने सख्त रूख अपनाया है।
 
देशभर से अल्मोड़ा घूमने आए थे पर्यटक, बॉर्डर से वापस लौटाए गए 66 लोग, जानिए वजह

अल्मोड़ा (उत्तराखंड पोस्ट) कोरोना की दूसरी लहर और देश में तेजी से बढ़ते मामलों ने एक बार फिर हर किसी की चिंता बढ़ा दी है। केंद्र के साथ-साथ राज्य सरकारों की चिंता अब बढ़ गयी है। उत्तराखंड में भी कोरोना के केस अब बढ़ने लगे है। कुंभ की शुरूआत भी हो चुकी है, ऐसे में राज्य सरकार ने सख्त रूख अपनाया है।

दिल्ली, हरियाणा समेत 12 राज्यों से उत्तराखंड आने वालों को प्रवेश करते समय कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य कर दिया गया है। इस आदेश का सख्ती से पालन भी हो रहा है। शुक्रवार को उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग और पुलिस की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए अल्मोड़ा बॉर्डर से 16 वाहनों में सवार 66 पर्यटकों को वापस लौटा दिया। बता दें कि इन लोगों के पास रिपोर्ट नही थी।

अल्मोड़ा के डीएम नितिन सिंह भदौरिया के निर्देश पर लोधिया बैरियर पर सख्ती शुरू हो गई है। बगैर आरटीपीसीआर टेस्ट के बाहरी राज्यों व शहरों के लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। शुक्रवार को बैरियर पर स्वास्थ्य विभाग के साथ ही पुलिस का दल तैनात रहा। बताया गया कि जिन पर्यटकों को वापस लौटाया गया वह दिल्ली व बरेली के साथ ही नोएडा, गाजियाबाद, हरियाणा, फरीदाबाद, हापुड़, गुरुग्राम आदि शहरों से जागेश्वरधाम, कौसानी, अल्मोड़ा, बागनाथ आदि पर्यटन स्थलों का लुत्फ उठाने पहुंचे थे।

इसके अलावा दूसरे राज्यों से पहुंचे 13 अन्य लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग व आरटीपीसीआर टेस्ट के बाद उन्हें होम आइसोलेशन में रहने की हिदायत दी गई। बता दें कि पुलिस की मौजूदगी में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शुक्रवार शाम तक 80 वाहनों को रुकवा कर सैलानियों की कोरोना रिपोर्ट चेक की। इसी दौरान जिनके पास आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट नहीं मिली, उन्हें लौटा दिया गया।

From around the web